HomeHealth Tips in Hindi

अश्वगंधा चूर्ण के फायदे और नुकसान Ashwagandha Benefits in Hindi

अश्वगंधा कैप्सूल, चूर्ण और टेबलेट के फायदे

अश्वगंधा (Ashwagandha Powder Benefits in Hindi) – इस पोस्ट में हम आपको गुणों से भरपूर अश्वगंधा के फायदे नुकसान और अश्वगंधा का सेवन कितनी मात्रा में करना चाहिए, इसके बारे में जानकारी देंगे| अश्वगंधा का नाम आप सभी ने सुना ही होगा| अश्वगंधा को जड़ी बूटी माना जाता है, इसीलिए अश्वगंधा का नाम आयुर्वेद में लिया जाता है| प्राचीन भारतीय चिकिसा में अश्वगंधा का अनेक प्रकार से इस्तेमाल किया जाता है|

Ashwagandha Benefits in Hindi

अफ्रीका और अमेरिका में संक्रमण से दूर रहने के लिए अश्वगंधा का इस्तेमाल किया जाता है| चीनी चिकिसा में भी अश्वगंधा के औषधीय गुणों का वर्णन किया गया है| Withania somnifera अश्वगंधा का वैज्ञानिक नाम है| अश्वगंधा से अनेक प्रकार की औषधि का निर्माण किया जाता है|

अश्वगंधा से बनी औषधि अनेक प्रकार के रोगो के इलाज में इस्तेमाल की जाती है| अश्वगंधा की जड़ो और ताजी पत्तियों में घोड़े के मूत्र गंध आती है, इसीलिए इसका नाम अश्वगंधा पड़ा| अश्वगंधा में मौजूद अंसख्य गुणों के कारण आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में इसकी मांग बढ़ती जा रही है|

अश्वगंधा के फायदे (Ashwagandha Benefits in Hindi)

1. हृदय के लिए लाभकारी : हृदय के लिए अश्वगंधा अनेक प्रकार से लाभकारी है| अश्वगंधा कोलेस्ट्रॉल लेवल को कण्ट्रोल करता है, और हृदय की माशपेशियों को मजबूत बनाता है| एक रिसर्च के अनुसार अश्वगंधा ब्लड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है| अश्वगंधा का सेवन करने से रक्त संचार अच्छा होता है, जिससे रक्त के थक्के नहीं जमते| जिससे यह हार्ट अटैक जैसे खतरनाक रोग से भी बचाता है|

2. अनिंद्रा दूर करे : आजकल लोगो की लाइफ में इतनी टेंशन हो गयी है, कि उन्हें नींद ना आने की समस्या का सामना करना पड़ रहा है| अगर आपको अनिंद्रा की समस्या है, तो अश्वगंधा चूर्ण या अश्वगंधा कैप्सूल का सेवन करे| अश्वगंधा चूर्ण या अश्वगंधा कैप्सूल हमारे मस्तिष्क में ऊर्जा का निर्माण करता है| जिससे नींद अच्छी आती है| इसके साथ ही अश्वगंधा तनाव को भी कम करता है, जो नींद ना आने का सबसे बड़ा कारण है|

3. कैंसर के इलाज में सहायक : कैंसर जानलेवा समझी जाने वाली एक खतरनाक बीमारी है| अश्वगंधा प्राकृतिक औषधि के रूप में इस खतरनाक बीमारी से लड़ने का काम करती है| अश्वगंधा कैंसर फ़ैलाने वाली कैंसर सेल्स को फैलने से रोकने का काम करती है| अश्वगंधा में अनेक प्रकार के एन्टीजनिक गुण पाए जाते है, जिसके कारण यह कैंसर के इलाज में सहायक होती है| अगर आपको कैंसर का रोग है, तो अश्वगंधा का सेवन जरूर करे|

4. अश्वगंधा लम्बाई बढ़ाये : अगर समय से पहले आपका कद बढ़ना बंद हो गया है, तो अश्वगंधा का सेवन करे| अश्वगंधा हाइट बढ़ाने में सहायक है| हाइट बढ़ाने के लिए एक गिलास दूध में स्वाद अनुसार चीनी और दो चम्मच अश्वगंधा चूर्ण मिलाकर पियें| अश्वगंधा चूर्ण के अनेक फायदे है, जिनमे हाइट बढ़ाना भी एक फायदा है|

5. संक्रमण से बचाये : अश्वगंधा में संक्रमण को कण्ट्रोल करने के असरकारी गुण पाए जाते है| अफ्रीका और अमेरिका में विशेष रूप से संक्रमण से बचने के लिए अश्वगंधा का इस्तेमाल किया जाता है| अगर आप अनेक प्रकार के संक्रमण से शरीर को बचाना चाहते है, तो अश्वगंधा का सेवन करना ना भूले|

6. प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत बनाये : प्रतिरक्षा प्रणाली अर्थात Immune System को मजबूत बनाने के लिए भी अश्वगंधा का इस्तेमाल किया जाता है| एक शोध के अनुसार अश्वगंधा से चूहों की लाल और सफ़ेद रक्त कोशिकाये बढ़ी है| इस आधार पर अश्वगंधा के सेवन से मानव शरीर में मौजूद लाल रक्त कोशिकाओं पर सकारात्मक असर होना चाहिए| ऐसा होने से एनीमिया के इलाज में मदद मिलेगी|

7. अवसाद दूर करे : दौड़ भरी जीवन शैली और काम के बढ़ते बोझ के कारण आजकल अधिकतर लोग अवसाद का शिकार हो जाते है| भारत में सबसे ज्यादा लोग अवसाद (Depression) का शिकार है| बनारस के हिन्दू विश्वविद्यालय में अश्वगंधा पर किये गए एक शोध के अनुसार अश्वगंधा को अवसाद दूर करने वाला बताया गया| अश्वगंधा का सेवन शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार लाने के साथ साथ मानसिक स्वास्थ्य में भी सुधार लाता है|

8. संधिवात में लाभकारी : संधिवात की समस्या होने पर जोड़ो में सूजन और दर्द की समस्या होने लगती है| अश्वगंधा संधिवात के कारण होने वाले जोड़ो के दर्द और सूजन को ठीक करने में सहायक है| एक शोध के अनुसार अश्वगंधा के अंदर सूजन कम करने और दर्द को ठीक करने वाले गुण पाए जाते है| जोड़ो के दर्द से छुटकारा पाने की यह सबसे बढ़िया घरेलू रामबाणऔषधि है|

9. घाव भरे : अगर आपके शरीर पर किसी भी चोट का घाव है, तो उसे ठीक करने और भरने के लिए आप अश्वगंधा का इस्तेमाल करे| घाव भरने के लिए अश्वगंधा की जड़ो को पानी के साथ पीसकर लेप बना ले| अब इस लेप को घाव पर लगाए| इस लेप से घाव जल्दी भर जायेगा|

10. शुगर के इलाज में सहायक : आयुर्वेद चिकित्सा में शुगर के इलाज में अश्वगंधा का इस्तेमाल कई सालो से किया जा रहा है| एक शोध के अनुसार एक महीने में ही अश्वगंधा के सेवन से शुगर काफी कण्ट्रोल हो जाती है| अश्वगंधा का सेवन शुगर के इलाज में सकारात्मक परिणाम देता है|

11. बालो के लिए लाभकारी : अगर आपके बाल टूट रहे है, तो अश्वगंधा का इस्तेमाल करे| शरीर में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ने से बाल झड़ने लगते है| अश्वगंधा शरीर में कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है, जिसके कारण बालो का टूटना कम हो जाता है| इसके साथ ही अश्वगंधा बालो में मेलेनिन की हानि को रोकता है| जिसके कारण समय से पहले बाल सफ़ेद नहीं होते|

अश्वगंधा के नुकसान (Side Effects of Ashwagandha in Hindi)

1. अश्वगंधा में गर्भ गिराने वाले गुण होते है, इसीलिए जो महिलाएं माँ बनने वाली है, उनको इसका सेवन नहीं करना चाहिए|

2. अश्वगंधा का सेवन कभी भी अधिक मात्रा में ना करे, ऐसा करने से उल्टी, दस्त जैसी प्रॉब्लम होने लगती है|

3. अगर आप किसी बीमारी की दवा ले रहे है, तो अश्वगंधा का सेवन डॉक्टर से पूछकर ही करे, क्योंकि कुछ दवा के साथ इसका सेवन करने से शरीर को नुकसान हो सकता है|

अश्वगंधा का सेवन कैसे करे

अश्वगंधा का सेवन करने के अनेक लाभ है, लेकिन इसका सेवन करने में सावधानी बरतनी चाहिए| अश्वगंधा का सेवन कितनी मात्रा में और कैसे करना चाहिए, यह इस बात पर निर्भर करता है, कि आप किस बीमारी के इलाज के लिए इसका सेवन करे रहे है| अधिकतर लोग अश्वगंधा के फायदे जानकर, इसका अधिक मात्रा करने लगते है, जिसके कारण उन्हें अनेक प्रॉब्लम होने लगती है|

अगर आप किसी बीमारी के इलाज के लिए अश्वगंधा कैप्सूल या अश्वगंधा चूर्ण का सेवन कर रहे है, तो डॉक्टर से इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर ले| अगर आप स्वस्थ रहने के लिए अश्वगंधा का सेवन कर रहे है, तो रोजाना आप एक से दो चम्मच अश्वगंधा पाउडर या कैप्सूल का सेवन कर सकते है| मार्किट में अनेक प्रकार के अश्वगंधा पाउडर और चूर्ण उपलब्ध है, लेकिन हम आपको पतंजलि का अश्वगंधा चूर्ण लेने की सलाह देंगे| क्योंकि इस कंपनी के प्रोडक्ट अच्छे होते है|

इस पोस्ट में आपने अश्वगंधा के फायदे (Ashwagandha Uses in Hindi) के बारे में जाना| Ashwagandha Churna Ke Fayde से जुड़ा ये हेल्थ रिलेटेड आर्टिकल आपको कैसा लगा, हमें कमेंट करके बताये| ऐसे ही स्वास्थ्य से जुड़े आर्टिकल पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट हेल्थ हिंदी टिप्स को रोजाना पढ़े|

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

loading...

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − nine =

error: Content is protected !!