HomeHealth Tips in Hindi

Top 16 Benefits of Barley in Hindi जौ के फायदे

Barley Hindi Meaning & Benefits

आज हम हेल्थ से जुड़े एक नये आर्टिकल के साथ आपका परिचय करायेगे। हमारे आज के आर्टिकल का टाइटल हैं, “Barley in Hindi”. Barley नाम सुनकर आप सभी को थोड़ा अजीब लगा होगा, क्योंकि ये नाम आप में से कुछ ही लोगो ने सुना होगा| लेकिन अगर हम आपको Barley का हिंदी नाम बता दे, तो शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति हो जिसने इसका नाम ना सुना हो। Barley को हिंदी में जौ कहते हैं। जौ (barley) एक अनाज हैं, जिसकी खेती प्राचीज काल से की जा रही हैं। जौ को संस्कृत में यव के नाम से जाना जाता हैं। जौ का इस्तेमाल सभी प्रकार के धार्मिक संस्कारों में पुराने ज़माने से किया जा रहा हैं। भारत सहित यह अमेरिका, कनाडा, रूस, जर्मनी और यूक्रेन में अधिक मात्रा में उगाया जाता हैं| (ये भी पढ़े – अश्वगंधा चूर्ण के फायदे)

Barley in Hindi

भारत में ऋषि मुनि जौ को अपना मुख्य आहार मानते हैं, और विशेष रूप से जौ (barley) का सेवन करते हैं। वेदो की बात करे तो इनके अनुसार जौ की आहुति के बिना कोई भी यज्ञ संपन्न नहीं माना जाता। जौ गेंहू की प्रजाति का होता हैं, लेकिन यह गेंहू से हल्का होता हैं। जौ (barley) में सैलिसिलिक एसिड, पोटैशियम, लेक्टिक एसिड और फास्फोरिक एसिड जैसे अनेक खनिज तत्व पाये जाते हैं, जो हमारे शरीर के लिए बहुत जरुरी होते हैं।

मलटाइन काडलीवर एक प्रकार की दवाई होती हैं, इस दवाई के निर्माण में जौ का इस्तेमाल किया जाता हैं। अब आप जौ के महत्व को समझ गये होंगे, और अगर अब भी नहीं समझे, तो चलिए जाने जौ के असंख्य फायदों के बारे में।

जौ के फायदे (Benefits of barley)

1. बाजार में बिना छिलके वाले जौ मिलते हैं, इन जौ की दूध के साथ खीर बनाकर सुबह शाम खाने से पतले और कमजोर लोग मोटे हो जाते हैं। अगर आपको बाजार से बिना छिलके के जौ नहीं मिले तो, आप जौ को 7 से 8 घंटे तक पानी में भिगोकर रख दे, उसके बाद इसका छिलका निकालकर सुखाये और फिर खीर बनाये|

2. मधुमेह के रोगियों के लिए जौ बहुत गुणकारी हैं| भुने जौ के आटे की रोटी खाने से मधुमेह के रोगी को आराम मिलता हैं| अगर आप मधुमेह को कण्ट्रोल करके रखना चाहते हैं, तो जौ के आटे की रोटियां खाये| इससे शुगर कण्ट्रोल में रहती हैं।

3. सीने में घाव होने पर 250 मिलीलीटर दूध के साथ 50 ग्राम शहद, 50 ग्राम शक्कर और 100 ग्राम जौ का सत्तू मिलाकर सुबह शाम सेवन करे| इससे घाव जल्दी ठीक हो जायेगा।

4. पथरी के मरीजो के लिए जौ रामबाण औषधि हैं| जौ के अंदर पथरी को गलाने का गुण होता हैं। जौ को 4 से 5 घंटे तक पानी में भिगोकर रखे, उसके बाद इस पानी को छलनी से छानकर पी ले| जौ का पानी पीने से पथरी गलकर अपने आप बाहर निकल जायेगी| पथरी के मरीजों को जौ की रोटी और जौ का सत्तू ऐसी चीजों का अधिक सेवन करना चाहिए। इससे पथरी जल्दी और आसानी से निकल जायेगी।

5. कुछ लोगो को पेशाब के साथ खून आता हैं, अगर ऐसा हैं, तो आप ये देशी नुस्खा अपनाये| 100 ग्राम जौ को लीटर पानी के साथ उबाले। जब यह पानी आधा हो जाये, तो इस पानी को ठंडा करके एक बोतल में भर ले| अब इस पानी का रोजाना दिन में 2 से 3 बार सेवन करे| ऐसा करने से पेशाब में खून आने की प्रॉब्लम दूर हो जायेगी|

6. पीलिया ठीक करने के लिए जौ के सत्तू का इस्तेमाल किया जाता हैं| जौ का सत्तू खाने के बाद एक गिलास गन्ने का रस पीने से पीलिया का रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता हैं|

7. अगर आप दमा के मरीज हैं, तो 5 ग्राम मिश्री में 5 ग्राम जौ पीसकर पाउडर बनाये। अब इस पाउडर को गर्म पानी के साथ सुबह शाम फाके। इससे कुछ ही समय में दमा की बीमारी ठीक हो जायेगी।

8. अगर आपका बार बार गर्भपात होता हैं, तो जौ आपके लिए बहुत लाभदायक हैं| 12 ग्राम जौ के आटे में (Barley flour) बराबर मात्रा में शक्कर और तिल मिलाकर पीस ले| अब इस पाउडर को शहद के साथ चाटे| ऐसा करने से महिला का गर्भपात नहीं होता|

9. अगर आपकी आंतो में जलन हैं और आपको दस्त हो रहे हैं, तो मूंग और जौ का पसावन बनाकर पीने से आपको बहुत लाभ होगा| इससे आपके दस्त और आंतो की जलन ठीक हो जायेगी|

10. अगर आपके शरीर का कोई हिस्सा जल गया हैं, तो तिल के तेल में जली हुयी जौ पीसकर जले हुये हिस्से पर लगाये| इससे आपकी जलन कम होगी और काफी आराम मिलेगा|

11. अगर आप मोटापे से परेशान हैं, तो जौ का सेवन करे| त्रिफले के काढ़े में शहद और जौ का सत्तू मिलाकर सेवन करने से मोटापा धीरे धीरे ख़त्म हो जायेगा|

12. जौ का पानी पीने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं। जौ का पानी शरीर की अंदर से सफाई करता हैं, और शरीर के अंदर की सारी गन्दगी पेशाब के माध्यम से बाहर निकाल देता हैं|

13. पीने के साफ़ पानी में भुने जौ का आटा मिलाकर घोल बनाये| अब इस घोल में थोड़ा घी मिलाकर पी ले| ऐसा करने से जलन और रक्तपित्त की समस्या दूर हो जायेगी।

14. रक्त वात को ख़त्म करने के लिए मुलेठी और भुने जौ के आटे को शुद्ध देशी घी में मिलाकर लेप करे|

15. गठिया रोग में जौ दवा का काम करता हैं| गठिया के मरीज को जौ के लड्डू बनाकर खिलाये| जौ के लड्डू खाने से गठिया की सूजन और दर्द ठीक हो जायेगा|

16. अगर आपको लू लग गयी हैं, तो जौ के आटे का लेप बनाकर शरीर पर मले। इससे बहुत लाभ होगा|

दोस्तों Barley in Hindi आज की हमारी यह पोस्ट आपको कैसी लगी| क्या आपको हमारी पोस्ट से कोई फायदा हुआ ? क्या आपके पास जौ से जुडी कोई अन्य लाभकारी जानकारी हैं, जो हम अपनी इस पोस्ट में नहीं लिख पाए ? इन सभी सवालो के जबाव आप हमें अपने कमेंट के माध्यम से दे सकते हैं| अपना कमेंट पोस्ट के निचे बने कमेंट बॉक्स में टाइप करे|

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × three =

error: Content is protected !!