HomeHealth Tips in Hindi

महिलाओं को गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए क्या नहीं : माँ बनने वाली औरत के गर्भ में पल रहे बच्चे का सम्पूर्ण विकास माँ के खान पान पर निर्भर करता है| गर्भावस्था में महिलाएं जैसा आहार लेती है, उनका बच्चा वैसा ही पैदा होता है| अगर आप गर्भावस्था के दिनों में पोषक तत्वों से युक्त आहार लेती है, तो आपका बच्चा हेल्थी पैदा होता है और अगर आप अनहेल्थी आहार लेती है, तो आपका बच्चा कमजोर पैदा होता है| गर्भावस्था के दौरान कई बार सही आहार ना लेने के कारण बच्चा कुपोषण का शिकार हो जाता है| जाने – गर्भावस्था के दौरान सावधानियां

Diet for Pregnancy in Hindi

अपने होने वाले बच्चे के अच्छे स्वास्थय के लिए माँ बनने वाली औरत को गर्भावस्था के दौरान संतुलित और पोषक तत्वों से युक्त आहार का सेवन करना चाहिए| गर्भावस्था के दौरान महिलाओ को सामान्य से अधिक कैलोरी की जरूरत होती है| सेफ डिलीवरी और स्वस्थ बच्चे के जन्म के लिए महिलाओं को अनेक सावधानी के साथ साथ भोजन का भी सही चुनाव करना चाहिए| आपको याद रखना चाहिए, कि गर्भावस्था के दौरान की गयी, आपकी कोई भी गलती बच्चे के लिए खतरनाक हो सकती है| आपके बच्चे का विकास आपके आहार पर निर्भर करता है, ऐसे आहार का चुनाव करे|

जो महीना पहली बार गर्भवती होती है, अक्सर उन्हें गर्भावस्था में कैसा आहार लेना चाहिए, इसकी जानकारी नहीं होती, इसीलिए वो नेट पर गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए, यह सर्च करती रहती है| गर्भवती महिलाओं की ये तलाश इस पोस्ट में पूरी हो जायेगी| इस पोस्ट में हम आपको Pregnancy Me Kya Khana Chahiye Kya Nahi इसके बारे में जानकारी देंगे|

प्रेगनेंसी में क्या खाये (Diet for Pregnancy in Hindi)

1. स्वस्थ शरीर के लिए पानी का सेवन बहुत जरुरी है| पानी की कमी से शरीर में अनेक प्रकार के रोग हो जाते है, और जब आप मां बनने वाली है, तब इस बात का और अधिक ध्यान रखना पड़ता है| पानी शरीर के सभी अंगो को पोषण देता है, इसीलिए माँ बनने वाली महिला को पानी खूब पीना चाहिए|

रोजाना तीन से चार लीटर पानी जरूर पियें| अगर मौसम गर्मी का है, तो पानी की मात्रा और बढ़ा दे| अगर आप सादा पानी अधिक नहीं पी पाती, तो आप नारियल पानी फलो का जूस भी पी सकती है| ये भी शरीर में पानी की कमी को दूर करते है| प्रेगनेंसी के दौरान उबालकर ठंडा किया गया पानी पीना चाहिए| उबले पानी में किसी प्रकार की गन्दगी नहीं होती|

2. प्रेगनेंसी के दौरान अक्सर महिलाओं में खून की कमी हो जाती है| खून की कमी से बचने के लिए आयरन युक्त फ़ूड खाये| ब्रोकली, जामुन सोयाबीन, मछली और पालक खून बढ़ाने के सहायक है, इसीलिए इसका सेवन करे| खून की कमी को दूर करने के लिए शुरुआत में डॉक्टर की सलाह के अनुसार आयरन की गोली खाये|

3. प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में अनेक प्रकार के शारीरिक और मानसिक परिवर्तन होते है, ऐसे में महिलाओं के शरीर को अतरिक्त ऊर्जा की जरूरत होती है| शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ाने के लिए कार्बोहाइड्रेट युक्त फ़ूड का सेवन करना चाहिए| चावल, आलू और ब्रेड में कार्बोहाइड्रेट की अधिक मात्रा होती है, इसीलिए इनका सेवन करना चाहिए|

4. पेट से जुडी सभी प्रॉब्लम जैसे पेट दर्द, कब्ज और एसिडिटी से बचने के लिए फाइबर वाली चीजों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए| पत्तेदार हरी सब्जयों, ताजे फलो में सबसे अधिक फाइबर पाया जाता है, इसीलिए इनका सेवन रोजाना करना चाहिए|

5. गर्भावस्था के दौरान शरीर में फोलिक एसिड की कमी के कारण बच्चे में न्यूरल ट्यूब का खतरा बढ़ जाता है, इसीलिए गर्भावस्था के दौरान शरीर में फोलिक एसिड की कमी ना होने दे| फोलिक एसिड के लिए संतरा, हरी सब्जियाँ, ताजे फल और स्ट्राबेरी खाये|

6. विटामिन सी का सेवन गर्भावस्था के दौरान लाभकारी होता है, इसीलिए विटामिन सी युक्त फ़ूड को अपने दैनिक आहार में शामिल करे| खट्टी चीजों में विटामिन सी अधिक पाया जाता है, इसीलिए आवँला, मौसमी, संतरा और नींबू का सेवन करे|

7. माँ और होने वाले बच्चे की हड्डिया मजबूत बनी रहे, इसीलिए गर्भावस्था में कैल्शियम युक्त चीजों का सेवन अधिक करना चाहिए| कैल्शियम से हड्डिया मबजूत होती है, और यह डिलीवरी के समय होने वाले दर्द को भी कम करता है| दूध कैल्शियम का सबसे अच्छा माध्यम है और यह सभी के घर उपलब्ध होता है| माँ बनने वाली महिला को रोजाना दो से तीन गिलास दूध पीना चाहिए| इसके अलावा अन्य कैल्शियम युक्त फ़ूड का भी सेवन करे|

8. गर्भावस्था के दौरान माँ के शरीर में आयोडीन की कमी होने से बच्चे का मानसिक विकास रुक जाता है और साथ ही अनेक प्रकार के मानसिक रोग भी होने लगते है| माँ बनने वाली औरत को अपने भोजन में आयोडीन की पर्याप्त मात्रा लेनी चाहिए| भोजन में आयोडीन युक्त नमक का ही इस्तेमाल करे|

9. बच्चे के शरीर के अंगो के सही विकास के लिए प्रोटीन का सही मात्रा में सेवन करे| माँ के स्तनों और गर्भाशय का विकास प्रोटीन पर ही निर्भर करता है, इसीलिए प्रोटीन की उचित मात्रा का सेवन जरुरी है|

10. गर्भाशय में सही खान पान जरुरी है, इसीलिए गर्भाशय के दौरान फलो, दालों और हरी सब्जयों का सेवन अधिक मात्रा में करे| सोयाबीन, दूध, उबले चने खाये, इनमे अनेक प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते है| अगर आप नॉनवेज खाती है, तो उबला अंडा खाये|

प्रेगनेंसी में आहार के टिप्स (Pregnancy Diet Tips in Hindi)

1. प्रेगनेंसी के दौरान उपवास या अधिक समय तक भूखा रहने की भूल लगती से भी ना करे| अगर आपको भूख ना लगे, तो भी थोड़ी थोड़ी देर बाद कुछ न कुछ खाती रहे, क्योंकि आपके बच्चे का पेट आपके भोजन से ही भरता है|

2. शरीर में कैफीन की अधिक मात्रा होने से बच्चा कमजोर पैदा होता है, या बच्चा कई बार गिर जाता है, इसीलिए कैफीन की अधिक मात्रा का सेवन भूलकर भी ना करे|

3. प्रेगनेंसी में आहार का सही चुनाव करे| फलो और सब्जियों का जूस पिए| घर पर बनाया गया, जूस शरीर के लिए अधिक लाभकारी होता है|

4. दूध को कच्चा ना पियें| दूध अच्छी तरह पकाकर पीना चाहिए|

5. धूम्रपान और अल्कोहल का सेवन आपके और आपके होने वाले बच्चे दोनों के लिए हानिकारक है, इसीलिए धूम्रपान और अल्कोहल का सेवन ना करे| जो लोग इनका सेवन करते है, उनके संपर्क में रहने से भी परहेज करे|

6. डॉक्टर की सलाह के अनुसार सभी दवाइयां समय पर ले| आपकी थोड़ी सी भी लापरवाही खतरनाक हो सकती है|

7. गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अधिक तली भुनी चिकनाई युक्त चीजे नहीं खानी चाहिए| ये बच्चे और आपके शरीर के लिए ठीक नहीं है|

8. अगर आपका मन मीठा खाने का करता है, तो अंजीर खाये| अंजीर खाने से कब्ज की समस्या दूर होती है, और शरीर को कैल्शियम भी मिलता है|

प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए क्या नहीं (Pregnancy Diet in Hindi Language)

गर्भावस्था के दौरान गर्भ में पल रहे बच्चे का सम्पूर्ण विकास गर्वभती महिला के खान पान पर निर्भर करता है| ऐसे में गर्वभती महिला को अपने भोजन पर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए| गर्वभती महिला को गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए इसके बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए| अगर आपको इस बात की जानकारी नहीं है, तो अपने डॉक्टर से क्या गर्भावस्था में क्या खाये क्या नहीं इसके बारे में बात कर लेनी चाहिए|

1. कच्चा या अधपका खाना विषाणु युक्त होता है, इसीलिए ऐसा खाना खाने से बचे| सही तरीके से पका भोजन ही खाये|

2. पपीते की तासीर गर्म होती है, इसीलिए गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को पपीता नहीं खाना चाहिए|

3. कुछ महिलाएं इतनी आलसी होती है, कि वे बिना धुले फल और सब्जियां खा लेती है, लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए| फलो और सब्जियों में गन्दगी जमी होती है, इसीलिए इन्हे बिना धुले ना खाये|

4. ओमेगा 3 की अधिक मात्रा के कारण समुंद्री भोजन करना अच्छा होता है, लेकिन कुछ समुंद्री जीव जैसे सलमोन मछली, केकड़ा और शार्क में मरक्यूरी की मात्रा अधिक होती है| मरक्यूरी की अधिक मात्रा बच्चे के दिमाग पर बुरा असर डालती है, इसीलिए अधिक मरक्यूरी युक्त इन समुंद्री जीवो को ना खाये|

5. कॉफी और चाय में कैफीन की मात्रा अधिक होती है, इसीलिए गर्भावस्था के दौरान कॉफी और चाय के सेवन से जितना हो सके परहेज करे|

6. बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी प्रकार की दवा का सेवन ना करे| गर्भावस्था के दौरान बिना सलाह के किसी भी दवा के सेवन से बच्चा गिर भी सकता है|

जाने – गर्भावस्था का तीसरा महीना
जाने – गर्भावस्था का चौथा महीना

इस पोस्ट में आपने Pregnancy Diet in Hindi (गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए क्या नहीं) इसके बारे में पढ़ा| जो औरते माँ बनने वाली है, उनके लिए ये आर्टिकल बहुत हेल्पफुल है| ये पोस्ट आपको कैसी लगी, इसके बारे में कमेंट करके हमें जरूर बताये| Pregnancy Diet के बारे में अगर आपके पास कोई जानकारी है, तो उसे हमारे साथ शेयर करना ना भूले|

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Loading...

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × 3 =

error: Content is protected !!