HomeHealth Tips in Hindi

लहसुन के 32 फायदे, गुण, उपयोग और नुकसान: Garlic Benefits in Hindi

Garlic Benefits in Hindi

हम यहाँ आपको लहसुन के फायदे बताने जा रहे हैं| भोजन में लहसुन को मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाता है| लहसुन में कई महत्वपूर्ण एलिकिन मौजूद होते हैं जो शरीर को कई प्रकार के लाभ पहुंचाता है| पुरुषों में यौन क्षमता बढ़ाने, कफ, सर्दी, लो ब्लड प्रेशर में लहसुन बेहद फायदेमंद साबित होता है|

lahsun ke fayde

लहसुन के फायदे इतने हैं कि ल‍हसुन का उपयोग अनेक गंभीर रोगों के इलाज में किया जाता है। इसी कारण से ल‍हसुन को औषधि के रूप में जाना जाता है। ल‍हसुन के अनगिनत फायदे और गुण हैं। खाली पेट ल‍हसुन खाने से होने वाले फायदे और भी बढ़ जाते है। भोजन बनाने से लेकर दवाइया बनाने तक ल‍हसुन का प्रयोग किया जाता है। आज हम आपको ल‍हसुन से जुडी ऐसी जानकरी देगे, जिसे जानने के बाद आप कई रोगों का इलाज घर पर ही कर सकते है।

लहसुन के अन्य फायदे (Lahsun ke Fayde in Hindi)

1. अगर आप अपने दिल के स्वास्थ्य को अच्छा बनाये रखना चाहते है, तो रोजाना लहसुन का सेवन करे| लहसुन को अच्छा उत्कृष्ट आहार माना गया है, जिसका सेवन दिल के लिए बहुत लाभकारी है| एक शोध के अनुसार रोजाना लहसुन का सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल लेवल कम होता है और रक्त परिसंचरण में सुधार होता है| लहसुन का सेवन करने से धमनियों के सख्त होने की गति धीमी हो जाती है और साथ ही एथोरोसक्लोरोसिस का भी विकास होता है| लहसुन का रोजाना सेवन आपको स्ट्रोक और दिल के दौरे जैसी जानलेवा बीमारियों के खतरे से दूर कर देता है|

दिल के स्वास्थ्य को अच्छा बनाये रखने के लिए रोज सुबह दो लहसुन की कलियों को चाबकर खाये| मार्किट में लहसुन के अनेक पूरक आहार मौजूद है, अगर आप चाहे तो ये पूरक आहार भी ले सकते है| लेकिन ध्यान रहे ये पूरक आहार डॉक्टर की सलाह अनुसार ले|

2. उच्च रक्तचाप (High blood pressure) आजकल एक सामान्य समस्या बन गयी है| पुराने ज़माने में उच्च रक्तचाप की समस्या 50 साल की उम्र के बाद होती थी, लेकिन आजकल कम उम्र में ही लोग इस बीमारी के शिकार हो रहे है| उच्च रक्तचाप के कारण मरने वाले लोगो की संख्या भी तेजी से बढ़ रहे है| अगर आप भी इस बीमारी के शिकार है, या इस बीमारी से बचना चाहते है, तो लहसुन का रोजाना सेवन करे| रिसर्च के अनुसार लहसुन में उच्च रक्तचाप को कम करने के गुण पाये जाते है|

उच्च रक्तचाप की समस्या के निदान और इससे बचाव के लिए रोजाना खाली पेट लहसुन की दो से तीन कलियों को चबाकर खाये| जिन लोगो को लहसुन का स्वाद या गंध पसंद नहीं है, वो लोग लहसुन खाने के बाद एक गिलास दूध पी ले| अगर आप चाहे तो डॉक्टर की सलाह अनुसार मार्किट में मौजूद लहसुन के पूरक आहार ले सकते है|

3. संधिशोथ और गठिया जैसे हड्डियों से जुड़े रोगो में भी लहसुन का सेवन लाभकारी है| लहसुन में डायलिल डाइस्फाइड नाम का यौगिक पाया जाता है| यह यौगिक उपास्थि-हानिकारक एंजाइमों की संख्या को कण्ट्रोल करने में मदद करता है| लहसुन में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सिडेंट गुण पाये जाते है| जिसके कारण लहसुन का सेवन करने से गठिया रोग से होने वाली सूजन कम हो जाती है|

अगर आप जोड़ो में दर्द और गठिया के कारण होने वाली सूजन को दूर करना चाहते है, तो अपने रोजाना के आहार में लहसुन शामिल करे| अधिक और जल्दी लाभ पाने के लिए खाली पेट कच्ची लहसुन का सेवन करे|

4. अगर आपके दांतो में दर्द है, तो लहसुन का इस्तेमाल आपके लिए लाभकारी है| लहसुन में मौजूद एनाल्जेसिक और एंटी-बैक्टीरियल गुणों के कारण यह दाँत दर्द को दूर करने राहत प्रदान करने में सहायक है| दाँत दर्द होने पर दाँत और आस पास के मसूड़ों पर लहसुन के तेल से मालिश करे| लहसुन का तेल मार्किट में आसानी से मिल जाता है| अगर आपके पास ये तेल मौजूद नहीं है, तो लहसुन को पीसकर इसका पेस्ट बनाकर भी आप दांतो पर लगा सकती है|

5. अक्सर लोग सर्दी और खांसी जैसी छोटी छोटी प्रॉब्लम को ठीक करने के लिए भी दवा खाने लगते है| जो लोग ऐसा करते है, वो अपनी सेहत के साथ खिड़वाड़ करे रहे है| सर्दी और खांसी को ठीक करने के लिए दवा के साथ पर लहसुन का सेवन करे| लहसुन शरीर को एंटी-वायरल और एंटी-बायोटिक लाभ प्रदान करता है, इसीलिए लहसुन का सेवन सर्दी और खांसी को ठीक करने का सबसे बढ़िया घरेलू इलाज है| अगर आपको श्वसन से जुडी अस्थमा और ब्रोंकाइटिस जैसी बीमारियां है, तब भी लहसुन का सेवन करने से लाभ होता है| लहसुन का रोजाना सेवन करने से श्वसन संक्रमण का खतरा कम हो जाता है|

इन सभी बीमारियों से बचने और इनके इलाज के लिए लहसुन का रोजाना सेवन करे| अगर आपको लहसुन खाना पसंद नहीं, तो मार्किट में मिलने वाले लहसुन के पूरक आहार का सेवन करे| लहसुन के पूरक आहार (सप्लीमेंट्स) आपको आसानी से दुकान पर मिल जायेगे|

6. जिन लोगो का Immune System कमजोर है, उन लोगो के लिए लहसुन का सेवन किसी दवा से कम नहीं| लहसुन में भरपूर मात्रा में सेलेनियम, विटामिन सी, बी 6 और मैंगनीज़ जैसे अनेक प्रकार के खनिज तत्व पाये जाते है| ये सभी खनिज तत्व हमारे Immune System को मजबूत करने में सहायक है| लहसुन में एंटी-बायोटिक और एंटी-ऑक्सिडेंट गुण भी मौजूद होते है| जिसके कारण लहसुन का रोजाना सेवन करने से सुरक्षा तंत्र मजबूत होता है|

सुरक्षा तंत्र को मजबूत बनाने और शरीर की Immune बढ़ाने के लिए रोजाना खाली पेट कच्ची लहसुन का सेवन करे| अगर आप मार्किट में मिलने वाले लहसुन के पूरक आहार का सेवन करना चाहते है, तो डॉक्टर की सलाह लेकर ही इनका सेवन करे|

7. जो लोग वजन घटाने के लिए घरेलू नुस्खे तलाश कर रहे है, उनके लिए लहसुन का सेवन बहुत लाभकारी है| लहसुन का सेवन करने से शरीर की चयापचय की किर्या तेजी से बढ़ती है और वजन भी आसानी से कम हो जाता है| अगर आप वजन कम करने के लिए लहसुन का सेवन कर रहे है, तो खाली पेट लहसुन का सेवन करे| खाली पेट लहसुन का सेवन करने से शरीर पर इसका असर अधिक होता है और वजन जल्दी कम हो जाता है|

8. फंगल संक्रमण से लड़ने और फंगल संक्रमण के इलाज में भी लहसुन का इस्तेमाल लाभकारी है| लहसुन में शक्तिशाली एंटी-फंगल गुण मौजूद होते है, जिसके कारण लहसुन का इस्तेमाल करने से फंगल संक्रमण से लड़ने में मदद मिलती है| फंगल संक्रमण से दाद जैसे त्वचा सम्बन्धी रोग हो जाते है|

फंगल संक्रमण या शरीर के किसी भी हिस्से में दाद होने पर उस हिस्से में लहसुन का तेल लगाए| इससे जल्दी ही लाभ होगा| अगर आपके मुँह में छाले हो गये है, तो लहसुन को पीसकर छालो पर लगा ले| इसके साथ ही रोजाना अपने आहार में कच्चे लहसुन को शामिल करे|

9. आपको जानकर हैरानी होगी कि कैंसर का रोजाना सेवन आपको कैंसर जैसे खतरनाक रोग से बचा सकता है| लहसुन में ट्यूमर के आकर को कम करने और ट्यूमर के विकास को रोकने के गुण पाये जाते है| लहसुन में एलिल सल्फर यौगिक पाया जाता है, यह यौगिक कैंसर कोशिकाओं की बढ़ने की गति को धीमा कर देता है| अगर आप इस बीमारी से बचना चाहते है, तो रोजाना लहसुन का सेवन करे| जिन लोगो के परिवार में किसी को भी कैंसर की बीमारी रही है, उन्हें लहसुन का सेवन विशेष रूप से करना चाहिए, क्योंकि कैंसर अनुवांशिक होता है|

Lahsun (Garlic) ke Fayde Aur Gun – ल‍हसुन के फायदे और गुण

1. दमा (Asthma) के मरीज को नियमित 2 चम्मच शहद के साथ ल‍हसुन (Garlic) के रस की कुछ बुँदे एक गिलास पानी में मिलाकर पीने से आराम मिलता है।

2. खाँसी (cough) से छुटकारा पाने के लिए 20 बूँद ल‍हसुन (Garlic) के रस की एक गिलास अनार के जूस में मिलाकर पिये।

3. प्याज और ल‍हसुन (Garlic) का रस सुबह गर्म पानी के साथ पीने से फ्लू से छुटकारा मिलता है।

4. ल‍हसुन (Garlic) का रस रोजाना पीने से रक्त का संचालन सही तरीके से होने के साथ साथ रक्त की सफाई भी होती है।

5. शरीर में फोड़े फुंसी होने पर ल‍हसुन (Garlic) को पीसकर बांधने से फोड़े फुंसी सही हो जाते है।

6. अगर आपको सर्दी लगी है, तो ल‍हसुन (Garlic) की बुँदे रुई में भिगोकर सूंघने से लाभ होता है।

7. अगर आपके दाँतो में कीड़ा लगा है और आपके दाँतो में तेज दर्द हो रहा है, तब आप ल‍हसुन (Garlic) के टुकड़ो को गर्म करे। अब इन गर्म टुकड़ो को उस दाँत पर लगाये जिसमे दर्द हो रहा है, और लगाकर कुछ देर दवाये रखे। दाँतो के दर्द से मुक्ति पाने का ये अच्छा और आसान तरीका है।

8. ल‍हसुन (Garlic) खाने से शरीर गर्म रहता है, जिससे ठंड लगने का खतरा कम हो जाता है।

9. सुबह खाली पेट ल‍हसुन (Garlic) खाने से ट्यूबरक्लोसिस की प्रॉब्लम खत्म हो जाती है।

10. चहरे से कील मुँहासे हटाने हो तो ल‍हसुन (Garlic) का रस लगाना चाहिए।

11.ल‍हसुन (Garlic) खाने से बाल झड़ने बन्द हो जाते है।

12. जिन लोगो को भूख नहीं लगती उनको ल‍हसुन (Garlic) का सेवन करना चाहिए। ल‍हसुन (Garlic) का सेवन करने से भूख खुलकर लगती है, और पाचन क्रिया भी सही तरीके से होती है।

13. ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल करने के लिए ल‍हसुन (Garlic) का प्रतिदिन सेवन करना चाहिए।

14. ल‍हसुन (Garlic) खाने से दिल से सम्बन्धित बीमारिया नहीं होती।

15. कोलेस्ट्रॉल का स्तर सामान्य रखने के लिए रोजाना ल‍हसुन (Garlic) खाना चाहिए।

लहसुन के नुकसान (Lahsun Ke Nuksan)

1. जिन लोगो को पेट या पाचन से जुडी बीमारियां होती है, उन लोगो को डॉक्टर की सलाह लेकर लहसुन का सेवन करना चाहिए|

2. लहसुन खाने से मुँह और शरीर से बदबू आने लगती है|

3. लहसुन शरीर में स्कन्दनरोधी अर्थात रक्त को पतला करने का काम करता है, ऐसे में यह जो लोग पहले से रक्त को पतला करने की दवा ले रहे है, वो इसका सेवन ना करे|

4. जो महिलाएं माँ बनने वाली है, उन्हें लहसुन या लहसुन के पूरक आहार का सेवन नहीं करना चाहिए|

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

ये पढ़ना ना भूले –

विटामिन डी की कमी से होने वाले रोग
Janiye Pregnancy me Konsa Fruit Khana Chahiye
जीवा आयुर्वेद की जानकारी
विटामिन डी के स्रोत
Vitamin C Ki Kami Se Hone Wale Rog
What is Surrogacy Meaning in Hindi
सांस फूलने का इलाज
टांगों और पैर की नसों में दर्द का इलाज
गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द
जानें ग्रीन टी पीने का सही समय और तरीका
बीपी – लो और हाई बीपी की समस्या के प्रमुख कारण
जानिये गर्भावस्था का तीसरा महीना
जानें गर्भावस्था का चौथा महीना
जानें गर्भावस्था के दौरान सावधानियां
पेय जल संरक्षण पर निबंध
Top 20 Calcium Rich Food in Hindi
अपेंडिक्स (Appendix) के मुख्य लक्षण
नार्मल डिलीवरी के टिप्स
महिलाओं को गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए
शिशु का सर्वोत्तम आहार
मासिक धर्म लाने के घरेलू उपाय

Comments (3)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − 4 =

error: Content is protected !!