HomeHealth Tips in Hindi

Meaning of Asafoetida in Hindi & Health Benefits of Asafoetida

(हींग) Asafoetida Meaning in Hindi Language

क्या आप जानते हैं , Asafoetida Meaning in Hindi ? इसका क्या मतलब हैं। हम खाना बनाने के लिए अनेक प्रकार के मशाले इस्तेमाल करते हैं। उन मशालों में से कुछ ही मशालों के अंग्रेजी नाम को हम जानते हैं। Asafoetida भी रोजाना हमारे भोजन में इस्तेमाल किया जाने वाला सामान्य मशाला हैं, लेकिन इस मशाले को हम उसके हिंदी नाम से जानते हैं। Asafoetida का सही उच्चारण असाफोएटिड / असाफोएटिडा होता हैं। Asafoetida को हिंदी में हींग के नाम से जाना जाता हैं। हींग भोजन को स्वादिष्ट और खुशबूदार बनाने वाला मशाला हैं।

Asafoetida Meaning in Hindi

Asafoetida in Hindi : ईरान में सबसे अधिक पाया जाने वाला हींग, सौंफ प्रजाति का छोटा पौधा होता हैं। हींग के पौधे छोटे होते हैं, और ये सबसे अधिक मध्य एशिया में पाये जाते हैं। हींग के पौधे के तने और जड़ से वनस्पति दूध निकलता हैं। इस वनस्पति दूध को इक्कठा करके ही हींग बनाया जाता हैं। हींग की अनेक प्रजाति होती हैं, लेकिन भारत में हींग की केवल 3 प्रजाति पायी जाती हैं।

हींग दो रंगों की होती हैं। एक लाल हींग जिसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता हैं, और दूसरी सफ़ेद रंग की हींग। सफ़ेद हींग का इस्तेमाल कम होता हैं। हींग की महक बहुत दूर तक जाती हैं। सल्फर की मात्रा अधिक होने के कारण इसका स्वाद कड़वा होता हैं, लेकिन इसके इस्तेमाल से भोजन का स्वाद बढ़ जाता हैं। हींग में अनेक प्रकार के गुण पाये जाते हैं, जिससे इसके सेवन से अनेक छोटे छोटे रोग ठीक हो जाते हैं। चलिए जाने हींग खाने के फायदों के बारे में।

हींग के फायदे (Benefits of Asafoetida)

1. नमक और अजवायन के साथ हींग पाउडर मिलाकर खाने से पेट की ऐठन और पेट दर्द ठीक हो जाता हैं। पेट दर्द होने पर गर्म पानी में हींग घोलकर लेप बनाये और इस लेप को पेट की नाभि और इसके आस पास के हिस्से पर लगाये। इससे पेट दर्द ठीक हो जायेगा। पीरियड्स या फिर पेट में ठंड लगने के कारण होने वाले दर्द को ठीक करने के लिए यह घरेलू नुस्खा कारगर हैं।

2. मासिक धर्म के दौरान महिलायों को अक्सर पेड़ दर्द, या पेट में ऐठन की प्रॉब्लम होती हैं। कुछ महिलायों को तो मासिक धर्म ही समय पर नहीं होते। पीरियड्स से जुडी इन सभी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए हींग का सेवन करे। हींग के सेवन से आप सफ़ेद पानी की समस्या से भी निजात पा सकती हैं। मासिक धर्म के दर्द से निजात पाने के घरेलू उपाय यहाँ पढ़े – http://www.healthhinditips.com/period-pain-home-remedies-in-hindi/

3. गलत खाना पान और खाना खाते ही बैठने और सोने के कारण कब्ज की समस्या पैदा हो जाती हैं। कब्ज होने पर मीठे सोडे में थोड़ा सा हींग पाउडर मिलाकर खाये। इससे कब्ज की समस्या दूर हो जायेगी और आपका पेट भी साफ़ रहेगा।

4. चर्म रोग जैसे खाज खुजली होना या दाद होना इनमे हींग बहुत फायदेमंद हैं। हींग को पानी में घिसकर चर्म रोग वाले स्थान पर लगाने से काफी आराम मिलता हैं।

5. दाँतो के रोगों के लिए हींग दवा का काम करती हैं। दाँत में दर्द होने पर कपूर पाउडर में थोड़ा सा हींग पाउडर मिलाकर दाँत दर्द वाले हिस्से पर लगाये। इससे कुछ ही समय में दाँत दर्द ठीक हो जायेगा। दाँतो में कीड़ा लगना भी आजकल सामान्य हो गया हैं, छोटे छोटे बच्चो के दाँतो में आजकल कीड़े लग जाते हैं। कीड़ो से छुटकारा पाने के लिए रात को सोते समय दाँत में हींग दबाकर सोये।

6. पीलिया रोग को ठीक करने के लिए भी हींग का इस्तेमाल किया जाता हैं। पीलिया होने पर गूलर के सूखे फलो के साथ हींग मिलाकर खाये। इससे पीलिया रोग ठीक हो जाता हैं। आँखों के आस पास हींग का लेप लगाने से भी काफी फायदा होता हैं।

7. अगर आप मधुमेह रोगी हैं, तो हींग आपके लिए बहुत लाभदायक हैं। करेले के रस में हींग पाउडर डालकर पीने से शुगर कण्ट्रोल में रहता हैं। हींग के सेवन से ब्लड में शुगर का लेवल कम होता हैं, और साथ ही शरीर में इन्सुलिन की सही मात्रा पैदा होती हैं।

8. अगर आपके घर में मच्छर अधिक हैं, तो घर में हींग को जलाकर धुँआ करे। इससे मच्छर भाग जायेगे। जो लोग अपने भोजन में हींग का इस्तेमाल करते हैं, उनके शरीर पर कीटाणु जल्दी असर नहीं करते।

9. अगर आपने गलती से जहर का सेवन कर लिया हैं, तो हींग का सेवन करने से जहर निकल जायेगा। जहर निकालने के लिए पानी में हींग घोलकर तुरंत पी ले।

10. बुखार होने या बुखार में ठण्ड लगने पर थोड़ा सा हींग का पाउडर अदरक के रस में डालकर खाये। इससे ठंड लगनी बन्द हो जायेगी और बुखार भी ठीक हो जायेगा।

11. अस्थमा या फिर किसी भी प्रकार की खाँसी होने पर शहद में अदरक का रस और हींग पाउडर मिलाकर खाने से आराम मिलता हैं। छाती में दर्द होने या फिर छाती में बलगम जमने पर भी इस घरेलू नुस्खे का इस्तेमाल करे। इससे फायदा होगा।

12. हींग को तिल के तेल में पकाकर ठंडा करके कान में डालने से कान दर्द ठीक हो जाता हैं। गर्म पानी में हींग डालकर उसका लेप बनाकर लगाने से सिर दर्द में बहुत आराम मिलता हैं।

13. हींग का लेप लगाने से शरीर में घुसा काँटा अपने आप निकल जाता हैं, और काँटा घुसने से होने वाली पीड़ा भी कम हो जाती हैं।

14. जोड़ो में दर्द होने पर सरसो के तेल में हींग, लहसुन और सेंधा नमक मिलाकर गर्म करे और फिर ठंडा करके इस तेल से जोड़ो की मालिश करे। इससे जोड़ो का दर्द ठीक हो जायेग।

हींग के नुकसान – Side Effects of Asafoetida(Hing)

1. हींग गर्म होता हैं, इसीलिए गर्वावास्था में हींग का सेवन ना करे। गर्वावास्था में हींग का सेवन करे से आपका मिसकैरेज हो सकता हैं। स्तनपान कराने वाली महिलायों भी हींग का सेवन ना करे।

2. हींग का सेवन करने से कुछ लोगो की त्वचा पर चकते पढ़ने लगते हैं। अगर ये चकते कुछ समय के लिए हो तो घबराने की बात नहीं, लेकिन अगर ये चकते ठीक ना हो तो तुरंत डॉक्टर से मिले।

3. ब्लड प्रैशर के मरीज हींग का सेवन ना करे, यह उनके लिए हानिकारक हैं। अगर हींग का सेवन आप करना ही चाहते हैं, तो बहुत कम मात्रा में इसका सेवन करे।

4. कभी कभी हींग के सेवन से होठो में सूजन आ जाती हैं, लेकिन यह सूजन कुछ देर में अपने आप ठीक हो जाती हैं। लेकिन अगर यह सूजन ठीक नहीं होती तो यह धीरे धीरे पुरे चेहरे पर फैल जाती हैं। ऐसी अवस्था में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे और हींग का सेवन बन्द कर दे।

5. हींग का सेवन अधिक मात्रा में ना करे। अधिक मात्रा में हींग का सेवन करे से सिर दर्द या चक्कर आने लगते हैं।

6. लकवा के मरीज या फिर जो लोग लकवा के मरीज रह चुके हैं, ऐसे लोग हींग ना खाये। इन लोगो को हींग का सेवन करने पर दौरा पढ़ने का खतरा बढ़ जाता हैं।

दोस्तों आज हमने आपको Asafoetida in Hindi इस विषय पर जानकारी दी। हमने आपको हींग खाने के फायदे और हींग खाने के नुकसान दोनों विषय पर जानकारी दी। आपको हमारी यह जानकारी कैसी लगी, हमे पोस्ट के निचे बने कमेंट बॉक्स में कमेंट करे जरूर बताये।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 − 2 =

error: Content is protected !!