HomeHealth Tips

Meaning of Wheat in Hindi & Top Benefits of Wheat

(गेहूँ) Wheat Meaning in Hindi

आज हम आपको गेहूं के बारे में जानकारी देना चाहते हैं, इसीलिए हमारी आज की पोस्ट का टाइटल हैं, Wheat Meaning in Hindi को हिंदी में गेहूं कहते हैं। गेहूं अनाज होता हैं, और मानव शरीर को पोषण के लिए सबसे पहले अनाज की जरूरत होती हैं। गेहूं को सबसे अधिक पोषण देने वाला आहार माना जाता हैं, इसीलिए दुनिया भर में अनाज का सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता हैं। गेहूं ऊर्जा का बढ़िया स्त्रोत्र हैं, इसीलिए गेहूं के सेवन से हमारे शरीर को जरुरी मात्रा में ऊर्जा मिलती रहती हैं। अधिकतर लोग गेहूं को केवल पेट भरने वाला अनाज मानते हैं, लेकिन ऐसा नहीं हैं।

Wheat Meaning in Hindi

गेहूं के फायदे (Benefits of wheat)

1. गेहूं में वो सभी तत्व मौजूद हैं, जो एक स्वस्थ मानव शरीर के लिए जरुरी होते हैं। आजकल लोग गेहूं के महत्व को समझते नहीं हैं, और वो गेहूं को छोड़कर मैदा का अधिक इस्तेमाल करते हैं। जिसके परिणाम स्वरुप वो अनेक बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। आइये गेहूं के महत्व को जाने और मैदा का सेवन बन्द करे।

2. अगर आपको कब्ज की समस्या हैं, और साथ ही आपका पेट भी खराब रहता हैं, तो अपने भोजन में गेहूं से बने आहार का सेवन करे। गेहूं में अधिक मात्रा में फाइबर होता हैं, जो पेट से जुड़े सभी रोगों को दूर करता हैं।

3. माइग्रेन के मरीजो के गेहूं के ज्वारे का जूस निकालकर पिलाना चाहिए। गेहूं के ज्वारे का जूस दिन में दो से तीन बार पीने से पहले दिन में ही 50 % आराम हो जायेगा।

4. गेंहू के आटे की रोटी या गेहूं की ब्रेड खाने से शरीर में होने वाला दर्द और सूजन कम हो जाती हैं। जिन लोगो के शरीर में हमेशा दर्द रहत हैं, उनको रोजाना गेहूं के आटे की रोटी खानी चाहिए।

5. फाइबर से भरपूर अंकुरित गेहूं में आयरन, कैल्शियम, ज़िंक,विटामिन फॉस्फोरस और मैग्नीशियम जैसे अनेक प्रकार के खनिज तत्व पाये जाते हैं, जिससे यह हमारे दिल का मजबूत बनाता हैं। इसीलिए दिल के मरीजो को अंकुरित गेहूं का सेवन करना चाहिए।

6. पुराने ज़माने में 30 की उम्र पर करने के बाद लोगो के गुर्दे में पथरी होती हैं, लेकिन आजकल गुर्दे में पथरी 30 से कम उम्र में ही होने लगी हैं। Wheat में पथरी को गलाने का गुण होता हैं। अगर आपके गुर्दे में पथरी हैं, तो Wheat से से बनी चीजे अधिक खाये। Wheat पथरी को गलाकर बाहर निकाल देगा।

7. अगर आपको बार बार बुखार होता हैं, तो गेहूं के ज्वारे का जूस रोजाना पियें। 2 से 3 महीने तक रोजाना गेहूं के ज्वारे का जूस पिने के बाद आपको कभी बुखार नहीं होगा।

8. आजकल लोग गेहूं की जगह मैदा का अधिक इस्तेमाल करते हैं, जिसके कारण वे मोटापे का शिकार हो जाते हैं। अगर आप अपना मोटापा घटाना चाहते हैं, तो मैदा का सेवन बन्द करे और गेहूं के आटे की रोटी और गेहूं से बनी चीजे खाये।

9. अगर आप एनीमिया के मरीज हैं, या भविष्य में एनीमिया के मरीज नहीं बनना चाहते, तो गेहूं और इससे बनी चीजे अधिक खाये। गेहूं Red blood cells का निर्माण करता हैं, इसीलिए रोजाना अपने भोजन में गेंहू का इस्तेमाल करे। इससे आपके शरीर में कभी Red blood cells की कमी नहीं होगी।

10. हाई ब्लड प्रेशर के मरीजो को मैदा का सेवन छोड़कर केवल गेहूं का सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से उनका ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल में रहता हैं।

11. अगर शराब या नशीली चीजो का सेवन करने से आपका सिर भारी हो गया हैं, तो एक कप गेहूं के ज्वारे को पियें। इससे आपको जल्दी आराम मिल जायेगा।

12. गेहूं को अंकुरित करके भी खाया जाता हैं। अंकुरित गेहूं में फाइबर की मात्रा अधिक होती हैं। अंकुरित गेहूं खाने से पाचन किर्या सही हो जाती हैं, जिससे पाचन किर्या खराब होने के कारण होने वाले सभी रोग ठीक हो जाते हैं।

13. आपका क्या खाते हैं, क्या नहीं इसका सीधा असर आपके शरीर पर पड़ता हैं। आपका खान पान ही तय करता हैं, कि आपका शरीर स्वस्थ हैं, या आप रोगी। अगर आप अपने खान पान में गेहूं का अधिक इस्तेमाल करेगे तो आपको कभी मधुमेह का रोग नहीं होगा।

14. शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने पर शरीर को कोई भी रोग आसानी से लग जाता हैं। रोजाना गेहूं के ज्वारे का रस पीने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं, जिससे आपके शरीर पर कोई भी बीमारी जल्दी हावी नहीं होती।

Wheat Meaning in Hindi दोस्तों इस विषय पर लिखा गया हमारा आजका लेख आपको कैसा लगा हमें जरूर बताये। अगर आप किसी अन्य विषय पर हमसे जानकारी चाहते हैं, तो आप अपने विषय के बारे में हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं। हम आपको उस विषय पर जानकारी जरूर उपलब्ध करायेगे।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!