HomeHealth Tips in Hindi

Jaldi Pet Kam Karne Ke Liye Yoga – Pet Kam Kaise Kare (Yoga Tips)

Pet Kam Karne Ke Liye Yogasan Hindi Me

Pet kam karne ke liye yoga – शरीर में चर्बी बढ़ने के साथ साथ पेट भी बाहर निकल जाता हैं, जो आपकी पूरी Personality को बेकार कर देता। मोटापा बढ़ने के साथ साथ शुगर, ब्लड प्रेशर और दिल से जुडी अनेक खतरनाक बीमारिया होने लगती हैं। अगर आप पतले हैं, तो वजन बढ़ाना आसान हैं, लेकिन बढ़े वजन को कम करना मुश्किल हैं। अगर चर्बी बढ़ने के कारण आपका पेट बाहर आ गया हैं, तो बढ़े पेट को कम करना और अधिक मुश्किल हैं।

Baba Ramdev Yoga For Weight Loss in Hindi

आज हम आपको कुछ योगासन के बारे में बतायेगे, जो मोटापा कम करने में कारगर हैं। इन योगा को नियमित करने से आप बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के अपने बढ़े पेट को कम कर सकते हैं। वजन एक दिन में कम नहीं होगा। इसके लिए आपको रोजाना योगा और व्यायाम करने के साथ साथ अपने खान पान पर भी ध्यान देना होगा। रोजाना योगा करने से आप खुद को स्वस्थ बनाये रखने के साथ साथ अनेक बीमारियों से भी बच सकते हैं।

इस पोस्ट में हम आपको पेट कम करने के लिए योगा (pet kam karne ke liye yoga) इस बारे में बतायेगे। इन योगा को नियमित रूप से करने से आप आसानी से अपने वजन को कम कर सकते हैं। अगर आप ब्लड प्रेशर की बीमारी और जोड़ो और घुटनो में दर्द की समस्या से परेशान हैं, तब आपको ये योगासन करने से इन बीमारियों से जल्द ही छुटकारा मिल जायेगा। आइये जाने पेट कम करने के लिए बाबा रामदेव के योगा टिप्स (pet kam karne ke liye yoga ramdev) , जो आपके पेट की चर्बी को आसानी से हटा देंगे।

Pet kam karne ke liye yoga ramdev

सेतु बांध योगा आसान (Setu Bandhasana )

1. इस आसान को करने के लिए पीठ के बल लेटकर अपने दोनों घुटनो को मोड़ ले। घुटनो को मोड़ने के साथ साथ अपने पैर के दोनों तलवों को जमीन पर सीधा टिका दे।

Setu Bandhasana in Hindi

2. दोनों हाथो को जमीन पर टिका दे। दोनों हाथ की हथेलियां इस अवस्था में जमीन से लगी होनी चाहिए।

3. अब धीरे धीरे सांस छोड़ने के साथ रीढ़ की हड्डियों को खिंचे। जमीन की तरह अपनी कमर को दबाये।

4. सांस लेते हुए पेडु को अधिक से अधिक ऊपर की ओर उठाते हुए दोनों पैरो को जमीन की और दबाये।

5. लगभग एक मिनट तक इस अवस्था में बने रहे।

6. अब धीरे धीरे सांस छोड़े और सामान्य अवस्था में वापिस आ जाये।

सेतु बांध योगा आसान (Setu Bandhasana )

1. इस आसान को करने से कमर और रीढ़ की हड्डी को ताकत मिलती हैं।
2. इस आसान को करने से गर्दन का तनाव कम होता हैं, और मेरुदंड में लचीलापन आता हैं।
3. इस आसान से पेट की मांसपेशियों को मजबूती मिलती हैं।
4. इस आसान को करने से छाती फैलती हैं।
5. इस आसान को करने से शरीर को ऊर्जा मिलती हैं।

सेतु बांध योगा आसान में सावधानिया

हाई ब्लड प्रेशर (उच्च रक्तचाप) से पीड़ित व्यक्ति को यह आसान नहीं करना चाहिए। कंधे, कमर या घुटनो में किसी भी प्रकार की समस्या होने पर भी यह आसान नहीं करना चाहिए।

कपालभाती योगासन (Kapalbhati Pranayama)

योगा से अगर आप पेट कम करना चाहते हैं, तो सबसे उत्तम योगा आपके लिए कपालभाती योगासन हैं। यह योगासन आपके पुरे शरीर को संतुलित रखने के साथ साथ आपका वजन भी कम करता हैं। इस योगासन को करने के साथ आपके शरीर में मौजूद 70 % विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं। कपालभाती योगासन कैसे करे आइये जाने –

1. इस आसान को करने के लिए खुले और शांत वातावरण में रीढ़ की हड्डी को सीधा रखते हुए बैठ जाये, और अपने दोनों हाथो को घुटनो पर रखे।

Young woman meditating by sea

2. अब शांत मन से लंबी साँस अंदर खीचे।

3. अब साँस को छोड़ते हुए अपने पेट को अंदर की तरफ खिंचे। अपने पेट को अधिक से अधिक अंदर की तरफ खिंचे। हो सके तो इतने अंदर खिंचे की आपका पेट आपकी रीढ़ की हड्डी से लगे।

4. इस आसान के एक राउंड को पूरा करने के लिए 20 बार साँस छोड़े।

कपालभाती योगासन के फायदे –

1. इस आसान से वजन कम होता हैं, मुख्य रूप से पेट की चर्बी कम करने में यह आसान काफी सहयोग करताहैं ।
2. इस आसान को करने से नाड़ियों का शुद्धिकरण होता हैं।
3. यह आसान चेहेर से झाइयां और कालापन हटाकर चेहेर की चमक को वापिस लाता हैं।
4. एसिडिटी और कब्ज से परेशान लोगो को रोजाना यह आसान करना चाहिए।
5. अगर आपकी यादाशत कमजोर हैं, तो यह आसान आपके लिए फायदेमंद हैं। यह आसान करने से यादाशत बढ़ती हैं।
6. यह आसान हमारे मन को शांत करके, हमारे विचारो को सकारात्मक बना देता हैं।

कपालभाती योगासन में सावधानिया –

कपालभाती योगासन करने के आधे घंटे बाद कुछ नही खाना चाहिए। कपालभाती योगासन खाली पेट करना चाहिए। पेट सर्जरी होने पर यह आसान ना करे। कमर दर्द, मिर्गी, स्लिप डिस्क या हर्निया जैसी बीमारिया होने पर यह आसान आपके लिए हानिकारक हो सकता हैं, इसीलिए ये सभी रोग होने पर यह आसान ना करे। पीरियड होने पर यह योगासन ना करे। जो महिलाये माँ बनने वाली हैं, उनको भी यह आसान नहीं करना चाहिए।

बाल योगासन (Balasan)

1. इस योगासन को करने के लिए खुले शांत वातावरण में वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाये।

Balasan in Hindi

2. अब अपने शरीर के पुरे वजन को अपनी एड़ियो पर टिकाते हुये घुटनो के बल बैठ जाये।

3. अब सांसों को अंदर की ओर खीचते हुये धीरे धीरे आगे की ओर झुके।

4. इस अवस्था में आपका सर जमीन पर टिका होना चाहिए, और आपकी छाती आपके दोनों पैरो से लगनी चाहिए।

5. अब इस मुद्रा में कुछ देर तक रहने के बाद वापिस वज्रासन की मुद्रा में लौट आये।

बाल योगासन के लाभ –

1. रोजाना यह आसान करने से शरीर को आराम मिलता हैं।
2. शरीर की अकडन को दूर करने के लिए यह आसान करना फायदेमंद हैं।
3. इस योगासन को रोजाना करने से पेट की मासपेशिया मजबूत होती हैं, और वजन तेजी से कम होता हैं।
4. इस आसान को करने से शरीर में खून का बहाव तेज होता हैं।

बाल योगासन में सावधानियां –

हाई ब्लड प्रेशर के शिकार लोगो को यह आसान नहीं करना चाहिए। पीरियड के दौरान भी यह आसान ना करे।

अनुलोम विलोम योगासन (Anulom Vilom Pranayam)

1. इस योगासन को करने के लिए शांत वातावरण में साफ़ कपडा बिछाकर सुखासन या पद्मासन की अवस्था में बैठ जाये।

Anulom Vilom Pranayam in Hindi

 

2. अब अपनी दायें हाथ के अंगूठे से नाक के दायें छिद्र को बन्द कर ले और नाक के बाएं छिद्र से अंदर की तरफ साँस खिंचे।

3. अब नाक के बाये छिद्र को अंगूठे के पास वाली दोनों अंगुलियों से बन्द करे और नाक के दायीं छिद्र से अंगूठा हटा दे। अब नाक के दायीं छिद्र से साँस को बाहर की तरफ निकाले।

4. अब नाक के दायीं छिद्र से साँस अंदर की ओर ले और दायीं छिद्र को बन्द करके, नाक के बाये छिद्र से साँस बाहर की तरफ निकाले।

अनुलोम विलोम योगासन के लाभ –

1. इस आसान को दैनिक रूप से करने पर शरीर निरोगी हो जाता हैं।
2. इस आसान से वजन कम होता हैं, और कम समय में पेट की चर्बी भी घटती हैं।
3. यह आसान करने से शरीर में खून का प्रवाह ठीक तरह से होता हैं।
4. इस आसान को रोजाना करने से स्मरण शक्ति बढ़ती हैं।
5. इस आसान को करने से फेफड़े स्वस्थ रहते हैं।

साइकिलिंग से मोटापा कम कैसे करे (Cycling how to reduce obesity)

इसके लिए सीधा लेट जाये और अपने दोनों पैरो को एक साथ ऊपर की ओर उठाये।

Cycling Yoga in Hindi
अब जैसे आप साइकिल चलाते हैं, उसी तरह से आप अपने दोनों पैरो को चलाइये।
पैरो को सीधी और कुछ देर उल्टी दिशा में समान रूप से चलाये।

साइकिलिंग योगासन के फायदे –

इस योगा को करने से मोटापा कम होता हैं। इसे रोजाना करने से पेट की चर्बी भी कम हो जाती है।
जिन लोगो के पैर मोटे हैं, उनके लिए साइकिलिंग करना बहुत फायदेमंद हैं। साइकिलिंग करने से पैरो की चर्बी कम हो जाती हैं।

नौकासन योगासन (Naukasana Yoga)

1. इस योगासन को करने के लिए शांत वातावरण में एक साफ़ कपडा बिछा ले। अब इस कपडे पे सीधे लेट जाये।

Naukasana Yoga in Hindi

2. अब अपने दोनों हाथो को अपने शरीर से सटाकर सीधे रख ले।

3. अब गहरी साँस ले। अब गहरी साँस को छोड़ते हुए अपनी छाती और पैरो को ऊपर की ओर उठाये।

4. इस अवस्था में आपके पैरो और हाथो की अंगुलिया एक दिशा में होनी चाहिए।

5. अब गहरी साँस लेते हुए, इस अवस्था में कुछ समय रहे।

6. अब साँस छोड़ते हुए वापिस अपनी स्थति में आये, और आराम करे।

नौकासन योगासन के लाभ –

1. यह आसान करने से हाथो और पैरो को सही आकर मिलता हैं।
2. इस आसान को रोजाना करने से मोटापा कम हो जाता हैं।
3. इस योगासन को करने से पेट और कमर की मासपेशिया मजबूत हो जाती हैं।
4. जिन लोगो को हर्निया की प्रॉब्लम हैं, उनके लिए यह आसान बहुत लाभप्रद हैं।

नौकासन योगासन में सावधानियां

1. जिन लोगो को पीठ दर्द, माइग्रेन जैसे रोगों से पीड़ित लोगो को यह आसान नहीं करना चाहिए।
2. पीरियड्स और गर्भावस्था के दौरान भी यह आसान ना करे।
3. अस्थमा से ग्रसित व्यक्ति को यह आसान नहीं करना चाहिए।
4. जिन लोगो को दिल से जुडी कोई भी बीमारी है वो लोग ये आसान ना करे।

दोस्तों आज हमने आपको pet kam karne ka yoga इस विषय में जानकारी दी। हमने आपको pet kam karne ke liye yoga बताये, वो सभी योग आपके लिए लाभदायक होंगे। पेट कम करने के लिए बताये गए ये सभी योगासन बाबा रामदेव के हैं, जो आपके पेट की चर्बी को घटाने में अपनी काफी मदद करेगे। आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी, और आपके लिए यह किस तरह लाभकारी रही, हमे कमेंट करके जरूर बताये।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (1)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

6 − 2 =

error: Content is protected !!