HomeHealth Tips in Hindi

Benefits of Basil in Hindi & Basil Leaves Uses

Basil Uses in Hindi

तुलसी को अंग्रेजी में Holy Basil के नाम से जाना जाता हैं। आज हम आपको “Benefits of Basil” Hindi भाषा में समझायेंगे। Holy Basil के अंदर इतने गुण पाये जाते हैं, कि इसके गुणों पर एक पूरा पुराण लिखा जा सकता हैं। भारत में तुलसी को पूजनीय माना जाता हैं। भारत में Holy Basil के गुणों और महत्व का अनुमान आप इसी बात से लगा सकते हैं, कि भारत में हर घर में तुलसी का पौधा होता हैं, और हर सुबह घर के लोग इस पर जल अर्पण करते हैं। तुलसी के पौधे को औषधि शास्त्र में भी मुख्य स्थान प्राप्त हैं। Holy Basil में 26 प्रकार के खनिज तत्व पाये जाते हैं। आयुर्वेद जगत की बात करे, तो आयुर्वेदिक 99 % दवाइयों में Holy Basil मौजूद होती हैं।

Basil in Hindi

तुलसी के इस्तेमाल से छोटी से लेकर बड़ी बीमारी को बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के ठीक किया जा सकता हैं। स्वास्थ्य के दृष्टि से तुलसी को घरेलू डॉक्टर और वैध भी कहा जाता हैं। आज हम आपको Basil in Hindi के इस आर्टिकल के तुलसी के ऐसे गुणों के बारे में बतायेगे, जिनसे खतरनाक से खतरनाक बीमारियों को आसानी से ठीक किया जा सकता हैं। तो आइये आर्टिकल को आगे बढाये और जाने तुलसी (Basil i) के फायदों के बारे में।

तुलसी के स्वास्थ्यवर्धक लाभ (Health Benefits of Basil)

1. कैंसर (Cancer) – तुलसी के निरंतर सेवन से आप कैंसर जैसे जानलेवा और खतरनाक रोग से . भी बच सकते हैं। एक शोध के अनुसार तुलसी में पाये जाने वाले Antioxidant आपको स्तन और मुँह के कैंसर को कम कर देते हैं। इसीलिए हमें रोजाना तुलसी का सेवन करना चाहिए।

2. दिल की बीमारी (Heart disease) – आजकल सबसे अधिक लोग दिल की बीमारी के कारण मर रहे हैं। खून में कोलेस्ट्रॉल का लेवल अधिक होने पर दिल से जुडी बीमारिया होती हैं। तुलसी खून में कोलेस्ट्रॉल के लेवल को लगातार कम करती हैं, जिससे Heart disease होने की सम्भावना 90 % कम हो जाती हैं। अगर आप दिल स्वस्थ रखकर खुद को ह्रदय रोगों से मुक्त रखना चाहते हैं, तो रोजाना तुलसी का किसी ना किसी रूप में सेवन करे।

3. तनाव से मुक्ति (Freedom from stress) – आजकल लोगो की जीवन शैली बढ़ते काम के कारण तनाव युक्त हो गयी हैं। तनाव के चलते बहुत कम लोग ऐसे होते हैं, जो खुश देखने को मिलते हैं। अगर आप तनाव से दूर रहना चाहते हैं, तो तुलसी को अपने व्यस्त जीवन में थोड़ा समय दे। एक शोध के अनुसार तुलसी में तनाव रोधी गुण गुण पाये जाते हैं, जो आपको तनाव से दूर रखते हैं। तनाव से दूर रहने के लिए रोजाना सुबह शाम तुलसी के 10 से 12 पत्ते चबा चबाकर खाये।

4. सफ़ेद दाग (White spot) – सफ़ेद दाग पर Basil leaves का लेप लगाने से सफ़ेद दाग ठीक हो जाता हैं। सफ़ेद दाग के मरीज को तुलसी की पत्तिया चबाकर खानी चाहिए।

5. सर्दी जुकाम (Cold and cough) – बच्चे हो या बड़े सर्दियों के मौसम में हर कोई सर्दी जुकाम की चपेट में आ जाता हैं। गर्मियों में कोई चाय पिए या ना पिए सर्दी से बचने के लिए सर्दियों में सभी चाय पीते हैं। अगर आपको सर्दी जुकाम हो गया हैं, तो तुलसी की पत्तिया (Basil leaves) चाय में डालकर उबाले और फिर चाय पियें। अगर आपको तेज बुखार हैं, तो तुलसी की पत्तियो (Basil leaves) का रस निकाल कर पीने से बुखार ठीक हो जायेगा। खाँसी होने पर तुलसी की पत्तियो को चबाने से खाँसी ठीक हो जाती हैं। अगर आपको कफ की समस्या हैं, तो तुलसी की पत्तिया चबाये या फिर तुलसी की पत्तियो का रस निकालकर पियें। तुलसी के सेवन से कफ साफ़ हो जाता हैं। यही कारण हैं, कि सभी कफ सिरप में तुलसी का रस मिलाया जाता हैं।

6. सिर दर्द (Headache) – अगर आपको सिर दर्द की प्रॉब्लम हो रही हैं, तो तुलसी का सेवन करे। सिर दर्द होने पर तुलसी दवा के रूप में काम करती हैं। सिर दर्द होने पर तुलसी के पत्तो को पीने के पानी में पकाये। जब तुलसी पूरी तरह पानी में पक जाये, तब इस पानी को ठंडा करके पियें।

7. संक्रमण (Infection) – अगर आपके मुँह में संक्रमण के कारण छाले पड़ गये हैं, तो तुलसी की पत्तिया चबाकर खाये। इससे मुँह के छाले ठीक हो जायेगे। अगर आपको दाद या त्वचा से जुड़ा कोई अन्य रोग हो गया हैं, तो रोग से ग्रसित स्थान पर तुलसी का रस लगायें। इससे त्वचा से जुड़े सभी रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जायेगे।

8. कान दर्द (Ear pain) – तुलसी के रस को हल्का गुनगुना करके कान में डालने से कान का दर्द ठीक हो जाता हैं। ध्यान रहे तुलसी रस को अधिक गर्म ना करे।

9. नकसीर (Hemorrhage) – गर्मी अधिक पड़ने पर नकसीर आना एक सामान्य बात हैं। लेकिन इससे हमारे शरीर से खून निकलता हैं, जिससे शरीर में काफी कमजोरी आ जाती हैं। तुलसी के सूखे पत्ते सूंघने से नकसीर आनी बन्द हो जाती हैं।

10. श्वसन रोग (Breathing problem) – अगर आपको सांस लेने में तकलीफ होती हैं, तो आप तुलसी का सेवन करे। इंफ्लुएंजा एक तरह का बुखार होता हैं। इस बुखार को ठीक करने के लिए Basil leaves, शहद और लौंग का काढा बनाकर पियें। तुलसी के सेवन से अच्छा फायदा होगा। सर्दी, दमा और ब्रोंकाइटिस जैसी बीमारियों में अदरक, तुलसी और शहद को मिलाकर बना काढा पीने से बहुत आराम मिलता हैं।

11. गठिया का इलाज (Treatment of Arthritis) – गठिया का मरीज अगर रोजाना तुलसी के पत्तो को पानी में उबालकर उस पानी से नहाये तो उसका गठिया रोग धीरे धीरे ठीक हो जाता हैं।

12. गले की खराश (Sore throat) – अगर आपके गले में खराश रहती हैं, तो तुलसी आपके गले की खराश को हमेशा के लिए ठीक कर देगी। खराश दूर करने के लिए तुलसी के पत्तो को पानी में डालकर उबाले। अब इस पानी को ठंडा करके इसे पानी से गरारे करे। गले की खराश ठीक करने के लिए आप तुलसी की पत्तयों का रस निकाल कर उसका सेवन भी करे।

13. सांसों की बदबू (Bad breath) – कुछ लोगो के मुँह से इतनी गन्दी बदबू आती हैं, कि कोई उनसे बात करना भी पसंद नहीं करता। ऐसे में सांसों की बदबू को दूर करना बहुत जरुरी हो जाता हैं। सांसों की बदबू को दूर करने के लिए सरसो के तेल में तुलसी के सूखे पत्तो को पिलाकर दाँत साफ़ करे। ऐसा करने से अगर आपके मसूढो से खून आता हैं, तो वो भी आना बन्द हो जायेगा।

14. आँखों में जलन (Burning in eyes) – अगर आपकी आँखों में जलन हो रही हैं, तो रात को सोने से पहले एक से दो बून्द तुलसी का अर्क आँखों में डाल ले। इससे आँखों में जलन ठीक हो जायेगी।

15. झड़ते बाल (Falling hair) – आजकल प्रदुषण इतना अधिक हो गया हैं, कि बाल समय से पहले सफ़ेद होकर झड़ने लगते हैं। बाल झड़ने से आज हर कोई परेशान हैं। नारियल के तेल में तुलसी पाउडर मिलाकर बालो की मालिश करने से बाल झड़ने बन्द हो जायेगे। यह नुस्खा आपको हफ्ते में कम से कम 4 बार अपनाना हैं, तब लाभ जल्दी मिलेगा।

16. गुर्दे की पथरी (Kidney stone) – अगर आपके गुर्दे में पथरी हैं, तो तुलसी के इस्तेमाल से आप बिना operation के गुर्दे की पथरी को निकाल सकते हैं। इसके लिए आपको कम से कम 6 महीने तक तुलसी के रस में शहद मिलाकर रोजाना सेवन करना होगा।

17. दांत दर्द (Toothache) – अगर आपके दांत में दर्द हैं, तो दवाई के स्थान पर तुलसी का इस्तेमाल करे। तुलसी की पत्तिया चबाकर खाने से दांत दर्द ठीक हो जाता हैं।

दोस्तों Sabja Seeds in Hindi के बाद आज हमने आपको Basil in Hindi की जानकारी दी। हमारी पोस्ट पढ़कर आप पूजनीय तुलसी के अनेक गुणों से अवगत हो गये होंगे। आपको हमारी तुलसी के विषय पर दी गयी जानकारी कैसी लगी, हमें कमेंट करके जरूर बताये।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 + 11 =

error: Content is protected !!