HomeHealth Tips in Hindi

Blood Pressure Control in Hindi – High/Low ब्लड प्रेशर का उपचार

High/Low Blood Pressure Treatment in Hindi

Low bp Symptoms in Hindi

आजकल ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) को लेकर बहुत लोग परेशान (Tension) है। कुछ लोग उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) को लेकर परेशान (Tension) है, और कुछ व्यक्ति निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) को लेकर परेशान (Tension) है। ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) बढ़ना और घटना दोनों ही खतरनाक (Dangerous) है। किसी भी व्यक्ति का नॉर्मल ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) 120/80 होता है।

अगर किसी व्यक्ति का ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) 80 से कम हो जाता है, तो यह निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) की श्रेणी में आता है। जब शरीर (Body) में रक्त परिसंचरण (Blood Circulation) का फ्लो कम होने लगता है, तब वह निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) कहलाता है। निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) में व्यक्ति Comma में जा सकता है। यदि ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) 120 से अधिक हो जाये, तो वह उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) कहलाता है। अचानक किसी व्यक्ति के शरीर में रक्त परिसंचरण (Blood Circulation) का फ्लो बढ़ जाता है, तो वह उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) का रूप ले लेता है। उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) इतना खतरनाक (Dangerous) होता है, कि इससे किसी की जान भी जा सकती है। उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) के कारण Heart Attack, Paralysis जैसी खतरनाक (Dangerous) बीमारी (Disease) भी हो सकती है।

निम्न रक्तचाप के कारण – Due to lower blood pressure

1. खून की नसों का छोड़ा हो जाना (Blood veins become deserted)
2. शुगर (Diabetes)
3. लीवर में रोग (In liver disease)

निम्न रक्तचाप के लक्षण – Symptoms of low blood pressure

1. सुस्ती आना (Lethargy come)
2. चक्कर आना (Dizziness)
3. कमजोरी आना (Weakness)
4. आखो के आगे अँधेरा आना (Dark eyes come forward)
5. हाथ पैर ठंडे पड़ना (Cold Hands and Feet Fall)

निम्न रक्तचाप का इलाज – Low Blood Pressure Treatment

1. 2 कप पानी में 4 काली मिर्च (Black pepper), 2 लौंग (Cloves) और 10 तुलसी के पत्ते (Basil leaves) डालकर तब तक उबाले जब तक पानी आधा ना रह जाये। अब इसे छानकर हल्का गर्म ही पी ले। दिन में एक बार इस पानी का सेवन करने से जल्दी ही निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) की समस्या (Problem) दूर हो जायेगी।

2. गाजर का मुरब्बा (Carrot Marmalade) बना कर खाने से भी निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) Normal होने लगता है।

3. BP Low (Low Blood Pressure) होने पर हरी पत्तेदार (Leafy) और ताजी सब्जियो (Fresh vegetables) का सेवन करना चाहिए।

4. शहद में तुलसी के रस को मिलाकर खाने से निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) में आराम मिलता है।

5. आधा चम्मच धनिया पाउडर, आधा चम्मच हल्दी पाउडर, 2 चुटकी इलाचयी पाउडर, 2 चुटकी अदरक पाउडर और 4 चम्मच चीनी को अच्छी तरह मिलाकर 2 कप दूध और आधा कप पानी डालकर उबाले। जब यह अच्छी तरह उबल जाये, तब इसे छलनी से छानकर गरम गरम ही पी ले। निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) से छुटकारा पाने के लिए इसका रोजाना एक बार जरूर सेवन करे।

6. निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) के मरीज (Patient) के लिए गाजर (carrot) और पालक (Spinach) का जूस (juice) पीना फायदेमंद (Beneficial) होता है।

7. 2 चम्मच शहद (Honey) में आधा चम्मच लहसुन का रस (Garlic juice) मिलाकर दिन में रोजाना 3 बार खाने से निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) की समस्या धीरे धीरे कम होने लगेगी।

8. निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) के मरीज को आवंले के रस (Amla juice) में शहद (Honey) मिलाकर उसका सेवन करना चाहिए।

9. एक गिलास पानी (Water) में गुड़ (Molasses), नमक (Salt) और निम्बू का रस (Lemon juice) मिलाकर पीने से निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) Normal हो जायेगा। इस पानी (Water) को दिन में 2 से 3 बार पिए।

10. BP Low (Low Blood Pressure) होने पर पानी (Water) अधिक मात्रा में पीना चाहिए। पानी में नमक, चीनी डालकर भी पी सकते है।

11. रात को पानी में किशमिश (Raisins) भीगो कर रख दे, सुबह इन किशमिश (Raisins) को एक एक करके चबा चबाकर खाये।

उच्च रक्तचाप के लक्षण – Symptoms of high blood pressure

1. जल्दी गुस्सा आना (Anger quickly)
2. सर दर्द (Headache)
3. अधिक पसीना आना (Perspire more)
4. दिल की धड़कन बढ़ना (Increased heart rate)
5. उल्टी होना (Vomiting)

उच्च रक्तचाप का उपचार – Treatment of Hypertension

1. गाजर का मुरब्बा (Carrot Marmalade ) बना कर खाये, इससे भी उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) को कण्ट्रोल करने में मदद मिलती है।

2. उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure को Normal करने के लिये, आधा ग्राम सर्पगंधा (Sarpagandha), आधा ग्राम सूखा धनिया (Dry coriander) 1 ग्राम मिश्री (Sugar) में पीसकर ताजे पानी के साथ खाये। इससे लाभ मिलेगा।

3. उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) दिल (Heart) की कमजोरी (Weakness) के कारण भी होता है। दिल (Heart) की कमजोरी (Weakness) को दूर करने के लिए शहतूत के शरबत (Mulberry syrup) का दिन में दो बार सेवन करना चाहिए।

4. उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) में तरबूज (Watermelon) खाने से ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) Normal हो जाता है।

5. नमक (Salt) का सेवन उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) के मरीज (Patient) को कम करना चाहिए।

6. सर्पगंधा (Sarpagandha) के पाउडर का सुबह शाम सेवन करने से उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) Noramal हो जायेगा।

7. उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) को Normal करने के लिए रात को मेथी के दाने (Fenugreek seeds) पानी में भीगो कर रख दे। सुबह इस पानी में भीगी मेथी (Fenugreek) को चबाकर खाये और वह पानी भी पी ले।

8. ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) लीची (Lychee) खाना फायदेमंद (Beneficial) होता है, इसीलिए उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) होने पर लीची (Lychee) का सेवन करना चाहिए।

9. आपको जानकर हैरानी होगी कि गेहू (Wheat) की बासी रोटी को दूध (Milk) में भिगोकर खाने से भी उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) Normal हो जाता है। High Blood Pressure Normal करके का यह आसान तरीका है।

10. अगर आप मासाहारी (non-veg) है, तो मछली (fish) का सेवन करे। मछली (fish) में Omega-3 fatty acid पाया जाता है, जो शरीर में उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) से लड़ने की शक्ति पैदा करता है।

11. गौ-मूत्र (Urine) हर बीमारी (Disease) के लिए रामबाण इलाज (Treatment) है। गौ-मूत्र (Urine) को शुद्ध (Pure) भी माना जाता है। ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) High हो या Low सुबह खाली पेट देसी गाय का गौ-मूत्र (Urine) पीने से Normal हो जाता है।

12. सुबह शाम टहलने (Stroll) जाने के साथ साथ रोजाना व्यायामं (Exercise) भी करे।

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen + 1 =

error: Content is protected !!