HomeHealth Tips in Hindi

चिकनगुनिया Chikungunya Symptoms Treatment in Hindi

चिकनगुनिया के लक्षण, कारण और उपचार

चिकनगुनिया (Chikungunya) तेजी से फैलने वाला Deadly Disease है। चिकनगुनिया (Chikungunya) एक प्रकार का Fever Virus है, जो एडीज मॉसक्विटो बाइट (Aedes Mosquito Bite) चिकनगुनिया (Chikungunya) एक ऐसा Fever Virus है, जो हमारे Body को लंबे समय के लिए Weak बना देता है। चिकनगुनिया (Chikungunya) होने पर Patient को काफी Weakness महसूस होती है, और यह Weakness Fever ठीक हो जाने के बाद भी लंबे समय के लिए बनी रहती है।

Chikungunya Ka Ilaj चिकनगुनिया (Chikungunya) के Patient के जोड़ो में तेज दर्द (Joint pain) होने लगता है, और यह दर्द काफी लंबे समय तक बना रहता है। चिकनगुनिया (Chikungunya) का अगर समय पर इलाज (Treatment) का कराया जाए, तो ये Disease भयंकर रूप ले लेती है। हम आजके लेख में आपको चिकनगुनिया (Chikungunya) के लक्षण और उससे बचने के उपाय के बारे में बतायेगे।

चिकनगुनिया के कारण और लक्षण (Causes and Symptoms of Chikungunya)

चिकनगुनिया एडीज मॉसक्विटो बाइट (Aedes Mosquito Bite) के काटने से होता है, इस Disease के लक्षण मच्छर के काटने के 3 से 4 दिन के बाद इंसान के शरीर में दिखाई देने लगते है। किसी भी Disease का सही और जल्दी इलाज करने के लिए उस Disease के सही कारणों और लक्षणों को जानना जरुरी है।

1. चक्कर आना (Dizziness)
2. ठंड लगना (Chills)
3. घबराहट होना (Nervousness)
4. उल्टी आना (Vomiting)
5. त्वचा में खुश्की (Skin dryness)
6. शरीर में लाल चकते पड़ना (Body rash fall)
7. सिर दर्द होना (Head pain)
8. आंखों में जलन (Eye irritation)
9. जोड़ों में तेज दर्द (Joint pain)
10.बुखार होना (Fever)

चिकनगुनिया का इलाज (Chikungunya treatment)

1. गिलोय (Tinospora) – 6 इंच का गिलोय (Tinospora) ले, और इसे 2 कप पानी के साथ तब तक निकाले जब तक पानी आधा ना रह जाये। अब गिलोय (Tinospora) के इस पानी को ठंडा करके पिए। इस पानी को पीने से चिकनगुनिया (Chikungunya) का Virus Body पर काम नहीं कर पाता।

2. अंगूर (Grapes) – चिकनगुनिया (Chikungunya) के Virus से छुटकारा पाने के लिए हल्के गुनगुने गाय के दूध के साथ बिना बीज वाले अंगूर खाये।

3. अजवाइन (Celery) – पानी में अजवाइन (Celery), नीम, तुलसी और किशमिश की सुखी पत्तियो को डालकर उबाले। अब इस पानी का रोजाना दिन में 2 से 3 बार सेवन करे।

4. पपीता (Papaya) – चिकनगुनिया (Chikungunya) होने पर रोजाना पपीता खाना शुरू कर दे। कच्चे पपीते का जूस पीने से चिकनगुनिया (Chikungunya) जल्दी ठीक हो जाता है।

5. पपीते के पत्ते (Papaya leaves) – चिकनगुनिया (Chikungunya) का बुखार इतना खतरनाक होता है, कि यह शरीर में प्लेट्स कम हो जाती है। पपीते का पत्तो का जूस निकालकर पीने से खून में प्लेट्स बढ़ जाती है। डेंगू के इलाज में भी पपीते के पत्तो (Papaya leaves) के जूस का इस्तेमाल किया जाता है।

6. तुलसी के पत्ते (Basil leaves) – चिकनगुनिया के Fever Virus से छुटकारा पाने के लिए तुलसी के पत्तो का काढ़ा बनाये। उसके बाद इस काढ़े में काली मिर्च पाउडर मिलाकर पिए।

7. सब्जियां (Vegetables) – चिकनगुनिया (Chikungunya) को जड़ से खत्म करने के लिए सब्जियो का जूस पिए। अधिक से अधिक मात्रा में फलो और सब्जियो का सेवन करे।

8. गाजर (Carrot) – कच्ची गाजर का सेवन करने से चिकनगुनिया (Chikungunya) के मरीज को काफी आराम मिलता है। गाजर खाने से Body की रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) भी बढ़ जाती है।

9. लौंग (Cloves) – चिकनगुनिया (Chikungunya) होने पर जोड़ो में बहुत तेज दर्द होने लगता है। इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए लौंग (Cloves) के तेल में लहसुन पीसकर मिलाये, और इसे किसी कपडे में डालकर जोड़ो पर बांध ले।

 चिकनगुनिया के उपचार में क्या करें (What to do in the treatment of chikungunya)

1. Body में पानी की कमी ना होने दे। समय समय पर पानी पीते रहे। ध्यान रहे पानी गुनगुना करके ही पिए।

2. Body में पानी की कमी ना होने दे। समय समय पर पानी पीते रहे। ध्यान रहे पानी गुनगुना करके ही पिए।

3. दूध, दही, पपीते और करेले को भोजन में अधिक मात्रा में शामिल करे।

4. अधिक से अधिक आराम करे। अधिक थकान देने वाला काम ना करे।

5. मरीज के कपडे और कमरे को साफ़ रखे।

राजीव दिक्षित का चिकनगुनिया का इलाज (Chikungunya treatment of Rajiv Dixit)

छोटी पीपर, सौंठ, तुलसी और नीम की गिलोय मिलाकर काढ़ा बनाये। अब इस काढ़े का रोजाना दिन में 3 बार सेवन करे। काढ़ा अधिक कड़वा लगने पर इसमें थोड़ा सा गुड़ मिला ले।

चिकनगुनिया का इलाज आयुर्वेदिक दवा से (Ayurvedic medicine to treat chikungunya)

1. Vilwadi Gulika
2. Sudarsanam Gulika
3. Amritarishta

ये कुछ बढ़िया आयुर्वेदिक दवाइया है, जो चिकनगुनिया (Chikungunya) के ईलाज में कारगर है। इन दवाइयों का सेवन करने से पहले किसी डॉक्टर से परामर्श जरूर ले।

चिकनगुनिया का होमियोपैथिक इलाज (Homeopathic treatment of chikungunya)

चिकनगुनिया (Chikungunya) का इलाज आप होमियोपैथिक दवाइयों के द्वारा भी कर सकते है। रोजाना दिन में तीन बार चिकनगुनिया (Chikungunya) के मरीज को Ocimum 200 की 2 2 बुँदे पिलाये। होमियोपैथिक की इस दवाई को इस्तेमाल करने से पहले एक बार होमियोपैथिक डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + six =

error: Content is protected !!