HomeHealth Tips in Hindi

13 Natural Depression Treatments in Hindi डिप्रेशन का इलाज

Depression Treatment in Hindi at Home

डिप्रेशन का घरेलू इलाज

डिप्रेशन (Depression) एक तरह की बायोलॉजिकल क्रिया (Biological activity) है, जो दैनिक जीवन में होने समस्याओं (Problems) के चलते हमारे शरीर( Body) द्वारा की जाती है। अगर यह बायोलॉजिकल क्रिया (Biological activity) किसी समस्या (Problem) के चलते लंबे समय तक हमारे जीवन में रहे तो यह हमारे लिए जानलेवा साबित हो सकती है। जानलेवा इसलिए हो सकती है, अवसाद (Depression) आज एक बड़ी बीमारी के रूप में हमारे समाज में फ़ैल रहा है, और अधिकतर लोग डिप्रेशन (Depression) के चलते आत्महत्या (Suicide) जैसा गलत कदम उठा रहे है।

आजकल हर किसी के जीवन (Life) में समस्या (Problem) है, और यही कारण है कि आज हर तीसरा व्यक्ति डिप्रेशन (Depression) का शिकार है। व्यक्ति का डिप्रेशन (Depression) उसके साथ साथ उसके परिवार वालो के लिए भी घातक है।

आज हम आपको डिप्रेशन (Depression) के कारण (Reason), लक्षण (Symptoms) , और डिप्रेशन (Depression) से बचने के उपाय बतायेगे, जो आपको डिप्रेशन (Depression) से बाहर निकालने में मदद करेगे।

डिप्रेशन के मुख्य कारण – The Main Causes of Depression in Hindi

डिप्रेशन (Depression) मुख्य रूप से Tension के कारण होता है, और Tension के हर किसी की Life में अलग अलग Reason होते है। Tension होने के कुछ मुख्य Reason निम्नलिखित है –

1. नौकरी छूट जाना (Get a job)
2. पैसो का नुकसान होना (To lose money)
3. किसी अपने से अचानक दूर जाना (Someone suddenly go away)
4. धोका मिलना (Deception meet)
5. कठिन परिश्रम के बाद भी परिणाम ना मिलना (After the hard work of not getting results)
6. दवाब में आकर किसी काम को करना (Someone else under pressure to work)
7. किसी के द्वारा परेशान किया जाना या ब्लैकमेल करना (Be disturbed by anyone or blackmail)

डिप्रेशन (Depression) के मुख्य लक्षण -The Main Symptoms of Depression in Hindi

जिस प्रकार डिप्रेशन (Depression) के कारण हर व्यक्ति में अलग अलग होते है, उसी प्रकार डिप्रेशन (Depression) के Symptoms भी हर व्यक्ति में अलग अलग होते है। किसी भी बीमारी का इलाज करना तब आसान हो जाता है, जब उस बीमारी के Symptoms के बारे में पता हो। डिप्रेशन(Depression) के मरीज के कुछ मुख्य Symptoms ये है –

1. खुद को अकेला महसूस करना (To feel lonely)
2. जीवन से निराश होना (Be frustrated by life)
3. नींद कम आना (Get less sleep)
4. खाना कम या अधिक खाना (Eat less or more food)
5. खुद कोई फैसला ना ले पाना (Not to take such a decision itself)
6. काम में मन ना लगना (Not up to the job loss)
7. गुस्सा अधिक करना (To more anger)
8. हमेशा थका हुआ महसूस करना (Always feeling tired)
9. जीवन में खालीपन लगना (Feel emptiness in life)
10. मरने के बारे में सोचना (Think of Die)
12. लोगो से दूरिया बनाना (People make the distance)
13. अकेले में समय बिताना (Spend time alone)
14. अकेले में रोना (Cry alone)
15. खुद को लाचार समझना (Understanding miserable)
16. मन में बड़बड़ाना (Rave in mind)
17. अचानक भावुक हो जाना (Suddenly become passionate)
18. हमेशा नकारात्मक सोचना (Always think positively)
19. डर लगना (Be afraid of)
20. हमेशा दुखी रहना (Always Be Unhappy)

डिप्रेशन दूर करने के बढ़िया उपाय -Great Way to Overcome Depression in Hindi

अवसाद (Depression) हर किसी की लाइफ में थोड़ा बहुत होता है, लेकिन अगर आप लंबे समय तक अवसाद (Depression) के शिकार है, तो यह आपको बहुत हानि पहुच सकता है। अवसाद (Depression) के अधिक समय तक रहने से सुगर, मानसिक रोग जैसी बीमारी हो सकती है। कई बार तो अवसाद (Depression) के कारण इंसान पागल हो जाता है, या आत्महत्या कर लेता है। इसीलिए अवसाद (Depression) का सही समय पर इलाज करना जरूरी है।

1. खुद को व्यस्त रखे (Keep yourself busy) – डिप्रेशन (Depression) से बचने के लिए खुद को हमेशा किसी ना किसी काम में व्यस्त रखे। जो व्यक्ति डिप्रेशन (Depression) का शिकार होता है, वह खाली समय में उल्टी सीधी नकारात्मक बाते सोचता है, जो सोचना घातक है। खुद को व्यस्त रखने से हम इस चीज से बच सकते है।

2. प्रतिदिन प्राणयाम करे (Pranayama daily to) प्रतिदिन प्राणयाम करने से भी डिप्रेशन (Depression) कम होता है। योग करने से डिप्रेशन (Depression) के साथ साथ स्ट्रेस, टेंशन से भी छुटकारा मिलता है।

3. खुश रहने की कोशिश करे (Try to be happy) – डिप्रेशन (Depression) के शिकार व्यक्ति को हमेशा खुद को खुश रखने की कोशिश करनी चाहिए। इसके लिए आप अपने दोस्तों के साथ घूमने जा सकते है, अपने बड़ो के पास बैठकर उनसे बाते सुन सकते है। अपनी पसंद को कोई काम कर सकते है।

4. लगातार काम ना करे (Constant does not work) – लगातार किसी भी काम को ना करे। बीच बीच में गैप ले, या अपने काम को चेंज करे। लगातार एक ही काम को करने से आप बोर हो जाते है, जिससे आपको स्ट्रेस होने लगता है।

5. लोगो से मिले बाते करे (Talk to people at) – अधिक से अधिक समय अपने परिवालों, दोस्तों के साथ गुजारे, उनसे बाते करे। इससे आपको खाली समय नहीं मिलेगा, जिससे आपको किसी भी बात को सोचकर स्ट्रेस या टेंशन नहीं होगी। डिप्रेशन (Depression) का मुख्य कारण सोचना ही है, और सोचने के लिए समय चाहिए, अगर आपके पास समय नहीं होगा, तो आप सोचेगे नहीं और सोचेगे नहीं तो डिप्रेशन (Depression) के शिकार नहीं होंगे।

6. काजू खाये (Cashew eat) – काजू में सेरोटोनिन रसायन (Chemical serotonin) पाया जाता है, जो स्ट्रेस बढ़ाने वाले हार्मोन (हार्मोन) को कम करने में मदद करता है। काजू खाने से अवसाद (Depression) कम होता है।

7. अच्छे गीत सुने (Good anthems) – अच्छे गाने सुनना आपके अवसाद (Depression) को कम करने में काफी मदद करता है। गाने सुनने से आप गाने में खो जाते है, जिससे आप कुछ समय के लिया सोचना बन्द कर देते है। इससे आपके दिमाग को रेस्ट मिलता है, और स्ट्रेस भी कम होता है।

8. अपने पसंद का काम करे (Work of your choice) – खुद को अपने पसंद के काम में व्यस्त कर दे, जैसे क्रिकेट खेलना, डांस करना, या मूवी देखना। ऐसा करने से स्ट्रेस कम होता है, जिससे अवसाद (Depression) कम होता है।

9. खुलकर हँसे (laugh uncontrollably) – हँसने से अवसाद (Depression को कम करने के साथ साथ अनेक लाभ होते है। हँसने से मासपेशिया मजबूत होती है, और स्ट्रेस कम होता है।

10. ताजी हवा में घूमे (Traveled fresh air) – सुबह शाम बाहर जाकर ताजी हवा में घूमने से भी अवसाद (Depression) कम होता है। ताजी हवा में घूमने से मस्तिष्क (Brain) में रक्त का प्रवाह (Blood flow) सही तरीके से होने लगता है।

11. माता पिता अपने बच्चो पर ध्यान दे (Parents pay attention to their children) – आजकल अधिकतर अवसाद (Depression) की शिकार बच्चे है। इसका मुख्य कारण है, बच्चो को खेलने से रोकना और पढ़ाई करने के लिये उनपर अधिक प्रेशर डालना। पढ़ाई के बोझ तले दबकर आज कई ऐसे केस है, जिनमे बच्चो ने आत्महत्या की है। इसका कारण कही न कही माता पिता भी है, कुछ माता पिता अपने बच्चो पर जरुरत से अधिक पढ़ाई का प्रेशर डालते है, या फिर उनसे बहुत अधिक उम्मीद करते है। अपने माता पिता की उम्मीदो को पूरा ना कर पाने के कारण अधिकतर बच्चे अवसाद (Depression का शिकार होते है, इसलिए सभी माता पिता को चाहिए कि अपने बच्चो पर जरुरत से अधिक प्रेशर ना डाले। बच्चो को भी समय दे, उनसे बाते करे खुद उन्हें घुमाने ले जाये।

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × five =

error: Content is protected !!