HomeHealth Tips in Hindi

Eye Flu Treatment in Hindi आखों में संक्रमण (Eye Infection) का इलाज

Eyes Infection Treatment in Hindi आई फ्लू

आँखें हमारे शरीर का सबसे नाजुक और अहम हिस्सा हैं। आँखों में मौसम में परिवर्तन, एलर्जी और वायरस संक्रमण (Virus infection) के कारण आईफ्लू की समस्या हो जाती हैं। आईफ्लू को सामान्य भाषा में हम आंखों का संक्रमण (Eye Infections) भी कहते हैं। आंखों का संक्रमण (Eye Infections) एक वायरल इंफेक्शन हैं, मतलब एक बार अगर ये किसी व्यक्ति हो हो जाये, तो उसके संपंर्क में रहने वाले सभी लोगो को हो जाता हैं। आंखों का संक्रमण (Eye flu) की समस्या बारिश के मौसम में अधिक देखने को मिलती हैं। आंखों में संक्रमण (Eye flu) होने पर रोगी की आंखों का रंग लाल हो जाता हैं। आँखों में चुभन के साथ तेज दर्द होने लगता हैं। लाइट या सूरज की रोशनी में आँखे खोलने में अधिक तकलीफ होती हैं। अधिक समय तक Eye flu की समस्या होने पर रोगी की आँखों से पानी भी निकलने लगता हैं।

Eye flu Treatment in Hindi
वैसे तो आंखों का संक्रमण (Eye Infections) एक सामान्य बीमारी हैं। यह बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती हैं, लेकिन अगर इस बीमारी का समय पर इलाज ना कराया जाए, तो आप हमेशा के लिए अपनी आँखे भी गवा सकते हैं। इसीलिए आँखों में कोई भी समस्या होने पर तुरंत इलाज कराये। आज हम आपको आंखों का संक्रमण (Eye flu) के कारण और इससे छुटकारा पाने के कुछ बढ़िया घरेलू उपाय बतायेगे। जो आपके लिए कारगर साबित होंगे।

आई फ्लू के लक्षण (Eye flu symptoms)

1. आँखें लाल होना (Eyes reddening)
2. आँखों में सूजन (Eye inflammation)
3. आँखों में जलन (Eye irritation)
4. आँखों में खुजली (Itchy eyes)
5. आँखों से धुंधला दिखना (Blurred eyes)
6. आँखों में दर्द (Eye pain)
7. आँखों से पानी निकलना (Eyes get water)

आँखों के संक्रमण के घरेलू उपचार (Home Treatment for Eye Infection)

1. गुलाब जल (Rose water) – कई बार आँखों में संक्रमण गन्दगी के कारण भी हो जाता हैं। आँखों की अच्छी तरह से सफाई करने के लिए रोजाना गुलाब जल की दो बुँदे आँखों में डाले। गुलाब जल से आँखों की सफाई होने के साथ साथ आंखों के संक्रमण (Eye Infections) की समस्या भी दूर हो जाती हैं।

2. आंवले का रस (Amla juice) – आँखों में संक्रमण हो या बालो से जुडी को भी समस्या आंवले का रस सभी में फायदेमंद होता हैं। आंवले का रस पीने से आँखों की रौशनी बढ़ती हैं, और बालो का सफ़ेद होना रुक जाता हैं। इसीलिए रोजाना आंवले का रस जरूर पिए। अगर हो सके तो ताजा आंवले का रस ही पिए, यह अधिक फायदेमंद होता हैं।

3. गाजर का रस (Carrot juice) – आंखों का संक्रमण (Eye Infections) होने पर गाजर का जूस पीने से भी फायदा होता हैं। इसीलिए रोजाना ताजी गाजर का जूस पीना चाहिए। गाजर का जूस पीने से त्वचा में ग्लो आता हैं, और आँखों की रौशनी भी बढ़ती हैं।

4. शहद (Honey) – एक गिलास ताजे पानी में शुद्ध शहद की कुछ बुँदे डाले, अब इस पानी से आँखों को अच्छी तरह धुले।
शुद्ध शहद से आँखे धोने से भी आँखों का संक्रमण ठीक हो जाता हैं।

5. पालक का रस (Spinach juice) – पालक का रस आपकी आँखों के साथ साथ आपके शरीर के लिए भी बहुत फायदेमंद हैं। इसीलिए रोजाना पालक का रस पिए। पालक को आप अनेक प्रकार से अपने भोजन में शामिल कर सकते हो। पालक की सब्जी पोष्टिक होने के साथ साथ खाने में भी स्वादिष्ट होती हैं।

6. घास (Grass) – आँखों की जलन दूर करने के लिए हरी घास का रस निकालकर कॉटन की सहायता से आँखों की पलकों पर रखे।

7. हरड़ (Harad) – आँखो की सूजन और जलन दूर करने के लिए हरड़ को पानी में भिगोकर रखे उसके बाद उस पानी को छलनी से छानकर आँखों को धुले।

8. त्रिफला चूर्ण (Triphala powder) – त्रिफला चूर्ण को दो से चार घंटो के लिए साफ़ ताजे पानी में भिगोकर रखे। अब इस पानी को छलनी से छाने और आँखों की अच्छी तरह सफाई करे।

9. हल्दी (Turmeric) – हल्दी को प्राकर्तिक औषधि के रूप में जाना जाता हैं। हल्के गर्म पानी में हल्दी मिलाये। अब इस हल्दी के पानी में कॉटन भिगोकर आँखों अच्छे से सफाई करे।

10. नीम (Azadirachta indica) – आँखों का संक्रमण दूर करने के लिए नीम के पानी से आखे धुलने के बाद आँखों में गुलाबजल डाले।

11. मुलहठी (Liquorice) – आँखों के दर्द और जलन से निजात पाने के लिए मुलहठी का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता हैं। मुलहठी को तीन से चार घंटो के लिए ताजे पानी में भिगोकर रखे। अब इस पानी में कॉटन डुबोकर अपनी पलकों के ऊपर रखे।

दोस्तों आज हमने आपको Eye flu in hindi के बारे में जानकारी दी। आपको हमारी Eyes infection treatment in hindi की ये जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताये। अगर आपके पास Eye flu treatment के बारे में कोई भी जानकारी है, तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताये।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 1 =

error: Content is protected !!