HomeHealth Tips in Hindi

जानें गर्भावस्था का चौथा महीना, Garbhavastha Ka Chotha Mahina

गर्भावस्था के चौथे महीने से गर्भवती महिला की दूसरी तिमाही शुरू हो जाती है| गर्भावस्था के चौथे महीने (13-27 सप्ताह) को कुछ विशेष कारणों से हनीमून सप्ताह भी कहते है| गर्भवती महिला का दूसरा ट्राइमेस्टर गर्भावस्था के चौथे महीने से शुरू हो जाता है, इसीलिए इस महीने से गर्भवती महिला को अपने ऊपर और अधिक ध्यान देने की जरुरत होती है|

गर्भावस्था का चौथा महीना

गर्भावस्था के चौथे महीने से गर्भवती महिला का पेट नजर आने लगता है| इस महीने से सूजन, सिर दर्द, उल्टी आना और नींद ना आने की प्रॉब्लम भी होने लगती है| इस पोस्ट में हम आपको बतायेगे कि कैसे गर्भावस्था के चौथे महीने में गर्भवती महिला अपनी और अपने होने वाले बच्चे की देखभाल करे| तो चलिए पोस्ट को आगे बढ़ाये और जाने गर्भावस्था का चौथा महीना कैसा होता है, माँ बनने वाली औरत के लिए और इस महीने में अपनी देखभाल कैसे करे|

गर्भावस्था के चौथे महीने में क्या खाये

दूध – गर्भावस्था के चौथे महीने में आपके और बच्चे के सही विकास के लिए कैल्शियम और विटामिन डी की जरूरत अधिक होती है| इस बात को ध्यान में रखते हुए ही, गर्भावस्था के चौथे महीने में डॉक्टर औरत को कैल्शियम और विटामिन डी की गोलियां देते है| बच्चे की हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए रोजाना कम से कम एक लीटर दूध का सेवन करना चाहिए| दूध के साथ साथ दूध से बनी चीजे जैसे पनीर और दही का सेवन भी करे| इनमे भी भरपूर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है|

फाइबर – गर्भावस्था के चौथे महीने में माँ बनने वाली महिला को फाइबर युक्त चीजों का अधिक सेवन करना चाहिए| इस अवस्था में औरत को फाइबर युक्त चीजों की अधिक जरूरत होती है, और यह आपके साथ साथ आपके बच्चे की सेहत के लिए भी लाभकारी है| फाइबर के लिए ताजे फलो, हरी सब्जियों, अनाज और जई का सेवन करे, इनमे फाइबर की मात्रा अधिक होती है|

मीट – जो महिलाएं नॉन वेज खाती है, और जिन्हे उल्टी नहीं आती, वो महिलाएं मीट का सेवन भी कर सकती है| मीट खाने से पहले इसे अच्छी तरफ साफ़ करके धो ले और हल्की आँच पर पकाकर ही खाये|

फैटी एसिड – आपके और होने वाले बच्चे के अच्छे स्वास्थय के लिए फैटी एसिड की जरुरत होती है| फैटी एसिड का सेवन करने से औरत में संज्ञानात्मक और मानसिक मंदता का जोखिम कम होता है| ऐसे में आपको भोजन में प्रयाप्त मात्रा में ओमेगा 3, 6, 9 फैटी एसिड लेना चाहिए|

आयरन – गर्भावस्था के चौथे महीने से बच्चे के उचित विकास के लिए आयरन की अधिक मात्रा में जरूरत होती है| आयरन साथ शरीर में खून की मात्रा भी पहले से अधिक होनी चाहिए| आयरन युक्त चीजों का सेवन करने से शरीर में खून की मात्रा बढ़ती है, जिससे बच्चे का सही विकास होता है| इसीलिए गर्भावस्था के चौथे महीने से आपको आयरन युक्त चीजों का सेवन अधिक मात्रा में करना चाहिए|

फल – अच्छी सेहत के लिए फलो का सेवन बहुत जरुरी है, और जब बात गर्भावस्था की हो, तो इन्हे खाने की जरूरत और बढ़ जाती है| फलो में खनिज, फाइबर और विटामिन सही अनेक प्रकार के पोषक तत्व पाये जाते है| गर्भवती महिला को इन सभी चीजों की जरूरत होती है, इसीलिए गर्भावस्था के दौरान ताजे फलो का खूब सेवन करे|

गर्भावस्था के चौथे महीने में क्या ना खाये

1. पैदा देर से पचता है, इसीलिए माँ बनने वाली औरत को मैदे से बनी चीजों से दुरी बनाये रखनी चाहिए| मैदे से बनी चीजे खाने से माँ बनने वाली औरत को कब्ज के कारण तेज दर्द होने लगता है|

2. समुद्री मछली खाने से बच्चे की मानसिकता पर नकारात्मक असर होता है, इसीलिए माँ बनने वाली औरत को समुद्री मछली का सेवन नहीं करना चाहिए|

3. ड्राई फ्रूट्स की तासीर गर्म होती है, इसीलिए गर्भावस्था के चौथे महीने से औरतो को ड्राई फ्रूट्स खाने बंद कर देने चाहिए|

गर्भावस्था के चौथे महीने में औरत को कैसा लगता है

1. पेट में दर्द होने लगता है, मतली होने की समस्या कम होती है|

2. वजन बढ़ने के साथ साथ कमर और कूल्हे फैलने लगते है|

3. पेट और जांघो पर स्ट्रेच मार्क्स होने लगते है|

4. कुछ महिलाओं को इस महीने में ठंडा पसीना और अजीब प्रकार के सपने आते है|

5. इस महीने से पेट में शिशु हिलने डुलने लगता है|

6. गर्भ का आकर बढ़ने से सांस की गलती अधिक होने लगती है|

7. गर्भावस्था के चौथे महीने में तनाव कम होता है, और अच्छा लगता है|

8. इस महीने में शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ जाती है| थकान और मतली की प्रॉब्लम अधिक होती है|

इस पोस्ट में आपने गर्भावस्था का चौथा महीना एक माँ बनने वाली औरत के शरीर में क्या क्या बदलाब लाता है, इस बारे में जाना| आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी, हमें कमेंट करके जरूर बताये| कमेंट करने के लिए पोस्ट के निचे बने कमेंट बॉक्स को फॉलो करे|

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five − 2 =

error: Content is protected !!