HomeHealth Tips in Hindi

Imli Ke Fayde – Tamarind Benefits in Hindi

इमली के औषधीय गुण – Imli Ke Aushadhi Gun

इमली (Tamarind) का नाम सुनते से मुँह से पानी (Mouth watering) टपकने लगता है। इमली (Tamarind) का खट्टा (Sour) मीठा (sweet) स्वाद (Taste) सभी को पसंद आता है। इमली (Tamarind) को इस्तेमाल खाने को स्वादिष्ट (Delicious) बनाने के लिए भी किया जाता है। इमली (Tamarind) को लोग केवल उसके स्वाद के कारण खाते है, लेकिन कम लोगो को इमली (Tamarind) के औषधीय गुणों (Medicinal Properties) बारे में पता होता है, जो हमारे शरीर (Body) के लिए भी काफी फायदेमंद (Beneficial) होते है। आइये इमली (Tamarind) के गुणों (Properties) के बारे में जाने।

Benefits of Imli in Hindi

इमली के फायदे और उपयोग

1. समय पर खाना (food) ना खाने के कारण या भूख ना लगने (Not being hungry) का कारण चिड़चिड़ापन (Irritability), अनिंद्रा (Insomnia), चक्कर आना (Dizziness) ऐसी अनेक परेशानियां (Difficulties) हो सकती है। समय पर खाना शरीर (Body) को स्वस्थ (Healthy ) रखने के लिए सबसे जरूर है। अगर आपको भूख ना लगने (Not being hungry) की समस्या (Problem) है, तो इस समस्या (Problem) से छुटकारा पाने के लिए इमली का सेवन करे। इमली (Tamarind) को पानी (Water) में भिगोकर रखे। जब इमली (Tamarind) फूल जाये, तब इसका रस (Juice) निकाल ले, अब इसके रस (Juice) में एक चुटकी काला नमक (Black Salt) मिलाकर दिन में 3 से 4 बार एक एक चम्मच पिए।

2. इमली (Tamarind) के फल के साथ साथ इमली के बीज (Tamarind seeds) के भी अनेक गुण (Property) है। इमली के बीज (Tamarind seeds) को भूनकर इसका पाउडर (Powder) बना ले। अब इस पाउडर (Powder) को दिन में 2 से 3 बार गुनगुने पानी (Warm water) में दस्त (Diarrhea) के मरीज (Patient) को दे। इस पाउडर (Powder) के इस्तेमाल (Used) से जल्दी ही दस्त (Diarrhea) रुक जायेगे।

3. इमली के बीज (Tamarind seeds) के पाउडर (Powder) को निम्बू के रस (Lemon juice) में मिलाकर दाद (Ringworm) पर लगाने से, दाद (Ringworm) ठीक हो जाता है।

4. सीने में जलन (Heartburn) होने पर पकी इमली के जूस (Tamarind juice) में मिश्री (Sugar) मिलाकर पिये।

5. गले में दर्द (Throat pain) या खराश होने पर इमली के पत्तो (Tamarind leaves) के रस से दिन में 3 से 4 बार कुल्ला करे।

6. इमली (Tamarind) बबासीर (Hemorrhoids) जैसी बीमारी (Disease) को ठीक करने में भी कारगर है। इमली के पत्तो (Tamarind leaves) और फूल (Tamarind flowers) को उबालकर जूस बनाये, और इस जूस को बबासीर (Hemorrhoids) के रोगी (Patient) को पिलाये।

7. पीलिया (Jaundice) के मरीज (Patient) को इमली (Tamarind) के इस्तेमाल से ठीक किया जा सकता है। इमली के फूल (Tamarind flowers) और पत्तो (Tamarind leaves) को पानी (Water) में डालकर उबाल (Simmer) ले, जब यह अच्छी तरह उबल (Simmer) जाये तब इस पानी को छलनी से छानकर दिन में 3 से 4 बार पीलिया (Jaundice) के मरीज (Patient) को पिलाये।

8. इमली के जूस (Tamarind juice) को पागल (Mad) को पिलाने से पागलपन (Madness) ठीक हो जाता है।

9. चोट (Injury) लगने पर इमली के पत्तो (Tamarind leaves) को पीसकर बाँधने से घाव (wound) जल्दी भर जाता है।

10. रोजाना अपने आहार (Diet) में इमली (Tamarind) का इस्तेमाल (Used) करने से वजन कम (Weight Loss) हो जाता है।

11. चोट (Injury) में सूजन (swelling) या दर्द (Pain) होने पर इमली के पत्तो (Tamarind leaves) का लेप बनाकर बांध दे, इससे कुछ ही समय में सूजन (swelling) कम होने लगेगी और दर्द (Pain) में भी आराम (Relief) मिलेगा।

12. इमली (Tamarind) को पानी (Water) में भिगोकर इसका अर्क बनाकर पीने से पाचन सम्बन्धी (Digestive) समस्या (Problem) दूर हो जाती है।

13. रोजाना एक चम्मच इमली का गुदा (Tamarind pulp) खाने से मधुमेह (Diabetes) कण्ट्रोल हो जाती है।

14. पीले दाँत (Yellow teeth) आपकी सुंदरता (Beauty) को कम कर देते है, पीले दाँतो (Yellow teeth) को सुन्दर (Beauty) और चमकदार (Bright) बनाने के लिए भी इमली (Tamarind) का इस्तेमाल किया जाता है। इमली के बीज (Tamarind seeds) का पाउडर (Powder) बनाकर सुबह शाम इस पाउडर (Powder) को अपने दाँतो (Yellow) पर मले, इससे दाँतो का पीलापन दूर हो जायेगा और दाँत ((Yellow ) सुन्दर (Beauty) चमकदार (Bright) हो जाते है।

15. सरदर्द (Headache) होने पर 5 ग्राम इमली (Tamarind) को एक कप पानी में भिगोकर रखे। इमली (Tamarind) के फूलने पर इसी पानी में इमली मसले और इस पानी को छलनी से छान ले। अब इस पानी में चीनी (sugar) डालकर पिये।

16. इमली के जूस (Tamarind juice) में चीनी (sugar) घोलकर पीने से चक्कर आने भी बन्द हो जाते है।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (1)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × three =

error: Content is protected !!