HomeHealth Tips in Hindi

जोड़ों के दर्द का इलाज Knee Joint Pain Treatment in Hindi

(Gathiya) Joint Pain Treatment in Hindi

घरेलू तरीकों से जोड़ों के दर्द का इलाज आसानी से किया जा सकता है| आयुर्वेदिक नुस्खों का इस्तेमाल करके जोड़ों का दर्द कुछ ही समय में दूर हो जाता है| आज के समय में बढ़ती हुयी Age में जोड़ो का दर्द होना सामान्य बात है। जोड़ो का दर्द (Joint Pain) ही गठिया रोग कहलाता है। गठिया होने पर शरीर में दर्द, अकडन, और सूजन आ जाती है।

Arthritis Treatment in hindi

अधिकतर यह रोग गठिया 50 साल की उम्र के लोगो में अधिक होता है। लेकिन आजकल की Life Style के कारण गठिया से 30 से 35 साल के लोग भी परेशान है। अगर आप गठिया से छुटकारा पाना चाहते है, तब आपको इसका इलाज अच्छे से करना होगा। आज हम आपको जो टिप्स बता रहे है, उनसे आपको गठिया का इलाज करने में काफी मदद मिलेगी।

गठिया का कारण – The Cause of Arthritis

गठिया (Arthritis) शरीर (Body) में यूरिक एसिड (Uric Acid) की मात्रा (Quantity) अधिक होने के कारण होता है। (Uric Acid) की मात्रा (Quantity) शरीर (Body) में अधिक होने पर जोड़ो का दर्द (Joint Pain), हड्डियो में दर्द (pain in bones) शुरू हो जाता है, और धीर धीरे यही Pain गठिया (Arthritis) का रूप ले लेता है।

गठिया के लक्षण – Symptoms of Arthritis

1. कंधे पर दर्द होना (Shoulder Pain)
2. हाथ की अंगुलियो में दर्द (Pain in Fingers)
3. पैर के पंजो में दर्द (Foot Pain)
4. पैर की अंगुलियो में सूजन होना (Swelling in The Toes)
5. घुटनो में दर्द रहना (Knee pain)
6. घुटनो के पास सूजन (Swollen knees Near)

गठिया ठीक करने के घरेलू उपाय – Arthritis Home Remedy Treatment in Hindi

गठिया (Arthritis) शरीर (Body) में सामान्य से अधिक यूरिक एसिड (Uric Acid) होने के कारण होता है, इसलिए गठिया (Arthritis) में अधिक से अधिक पानी पीये। अधिक पानी पीने से पेशाब अधिक आयेगा, जिससे यूरिक एसिड (Uric Acid) पेशाब के रास्ते बाहर निकलने लगेगा।

1. काले नमक में अमरुद के छोटे पत्ते पीसकर रोजाना खाने से गठिया (Arthritis) जल्दी ठीक हो जाती है।

2. गठिया (Arthritis) से पीड़ित व्यक्ति को हरी सब्जियो का सेवन अधिक करना चाहिए, हो सके तो अधिक से अधिक सब्जियो का जूस पीये।

3. जोड़ो के दर्द (Joint Pain) को ठीक करने के लिए गरम पानी में नमक डालकर पैरो की सिकाई करे।

4. शरीर (Body) में यूरिक एसिड (Uric Acid) की मात्रा (Quantity) अधिक होने के कारण गठिया (Arthritis) होता है। गठिया (Arthritis) के इलाज में निम्बू और संतरे का रस पीना चाहिए, क्योंकि निम्बू और संतरे में यूरिक एसिड (Uric Acid) की मात्रा (Quantity) कम करने का गुण होता है।

5. भोजन से पहले आलू का रस निकाल के पीने से गठिया (Arthritis) में लाभ मिलता है।

6. खट्टी और तली भुनी चीजे कम खाये।

7. रात में पानी में भीगो कर रखी मेथी (Fenugreek) को सुबह उठकर चबाकर खाने से भी गठिया (Arthritis) ठीक हो जाती है।

8. हफ्ते में कम से कम 2 बार 20 से 25 मिनट के लिए धुप में बैठे। धुप में विटामिन D होता है, जो हमारी हड्डियो के लिए अच्छा होता है। हड्डिया घिसने पर ही गठिया (Arthritis) होता है।

9. Cod liver oil को संतरे के रस में मिलाकर सोने से पहले पीने से गठिया (Arthritis) ठीक करने में मदद मिलती है।

10. बथुआ गठिया (Arthritis) के इलाज में औषधि का काम करता है। सुबह शाम 4 बजे बथुये के पत्तो का रस पीने से गठिया (Arthritis) के मरीज को आराम मिलता है। बथुये की सभी, पराठे, रोटी, पूरी भी खा सकते है।

11. गठिया (Arthritis) ठीक करने के लिए जामुन की छाल को उबालकर उसका लेप बनाकर जोड़ो पर लगाए।

12. अदरक को सूखा के इसका पाउडर बना ले, अब इस पाउडर को रोजाना खाये। इससे गठिया (Arthritis) जल्दी ठीक हो जाती है।

13. हफ्ते में 3 से 4 बार एक एक चम्मच शहद (Honey) में आधी चम्मच दालचीनी (Cinnamon) खाने से गठिया (Arthritis) जल्दी ठीक हो जाता है।

14. गठिया (Arthritis) के दर्द को कम करने के लिए अरंडी के तेल (Castor oil) से मालिश करे।

15. रात को तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से भी गठिया (Arthritis) की बीमारी ठीक हो जाती है।

16. गठिया (Arthritis) में जोड़ो का दर्द (Joint Pain) बहुत अधिक होता है। जोड़ो का दर्द (Joint Pain) से छुटकारा पाने के लिए सरसो के तेल में लहसुन (Garlic) की कलिया डाल कर पकाये। जब यह तेल अच्छे से पक जाये, तब इसे ठंडा करके अपने जोड़ो पर मालिश करे।

17. अगर आप गठिया (Arthritis) जल्दी ठीक करना चाहते है, तो गाजर को पीसकर उसमे निम्बू का रस मिलाकर खाये।

18. जैतून के तेल (Olive oil) से शरीर (Body) की मालिश करने से गठिया (Arthritis) के दर्द को कम किया जा सकता है।

19. नारियल का पानी (Coconut water) पीने से भी गठिया (Arthritis) ठीक करने में मदद मिलती है।

20. गाय के एक गिलास दूध (Milk) में लहसुन (Garlic) की 10 कलिया निकाल के 15 मिनट तक उबाले, और फिर इसे ठंडा करके पी ले, यह गठिया (Arthritis) ठीक करने में लाभकारी है।

21. रोजाना योग करे, योग हर बीमारी का इलाज है।

गठिया रोग में क्या खाना चाहिए (Gathiya Me Kya Khana Chahiye)

1. ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त चीजों का सेवन गठिया में काफी लाभकारी होता है| सैल्मन जैसी कुछ मछलियों में ओमेगा 3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है, इसीलिए इन मछलियों का सेवन करे|

2. गठिया रोगियों को ब्रोकोली का सेवन करना चाहिए| ब्रोकोली में गठिया के कारण होने वाले दर्द और सूजन को कम करने के गुण होते है|

3. गठिया रोग से बचने और गठिया रोग के लक्षणों को कम करने के लिए चेरी का सेवन करे|

4. गठिया के कारण होने वाले दर्द से छुटकारा पाने के लिए हल्दी का सेवन करे|

5. गठिया रोगियों को जैतून के तेल से मालिश करनी चाहिए| जैतून का तेल गठिया रोग में होने वाले दर्द को कम करने में सहायक है|

6. ग्रीन टी पीने से जोड़ो की सूजन कम हो जाती है, इसीलिए रोजाना एक से दो कप ग्रीन टी पियें| ग्रीन टी पीने के कई अन्य फायदे भी है|

गठिया में परहेज (Gathiya Rog Me Parhej in Hindi)

1. गठिया के मरीज को तजी भुनी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए|

2. बाहर का खाना गन्दगी से बना होता है, इसीलिए ऐसे खाने को ना खाये|

3. चीनी का सेवन भी गठिया रोगियों के लिए हानिकारक है, इसीलिए चीनी का सेवन भी ना करे|

4. गठिया से पीड़ित लोगो को शराब जैसी नशीली चीजों से दुरी बनाये रखनी चाहिए|

5. पेप्सी और कोक जैसे सॉफ्ट ड्रिंक भी सेहत के लिए हानिकारक है, इसीलिए इनका सेवन ना करे|

ये पढ़ना ना भूले –

कलौंजी के हैं बहुत फायदे
Benefits & Meaning of Broccoli in Hindi
यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण
गले में खराश का इलाज
पुरुषों में एचआईवी के लक्षण
गले के कैंसर के लक्षण
खांसी का इलाज
गले में दर्द का इलाज और घरेलू नुस्खा
बाबा रामदेव के देसी नुस्खे
जानिए गांठ के लक्षण और घरेलू उपचार
एलर्जी का इलाज और एलर्जी की घरेलू दवा
घुटने का दर्द : उपाय, घरेलू इलाज और दवा
कमर दर्द का इलाज, कारण
ब्रेन ट्यूमर क्या है पूरी जानकारी
ब्रेन ट्यूमर के 10 लक्षण
जल्दी मोटापा कम करने के उपाय
जानें शारीरिक कमजोरी के लक्षण
चेहरे के गड्ढे भरने के उपाय
जानें 12 शुगर के लक्षण
जानें एलोवेरा के नुकसान

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 5 =

error: Content is protected !!