HomeHealth Tips in Hindi

What is Meaning of Parsley in Hindi & Parsley Leaves

Meaning of Parsley in Hindi Language

Parsley in Hindi आज हम आपको इस विषय पर जानकरी देंगे। अधिकतर लोग आजकल नयी नयी रेसिपी ऑनलाइन बनाना सीखते हैं। जब रेसिपी कैसे बनाये ये बताया जाता हैं, तो उसमे लिखा होता हैं, अब इस रेसिपी में Parsley (पार्सले) डाले। आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत में आज भी 80 % लोग पार्सले क्या हैं (What is parsley in hindi) यह नहीं जानते, जबकि भारत के सभी घरो में रोज इसका इस्तेमाल होता हैं। Parsley (पार्सले) को हिंदी में धनिया कहते हैं। कई लोग Parsley (पार्सले) को अजमोद के नाम से भी जानते हैं। Parsley (अजमोद) के बीज अजवाइन से बड़े होते हैं, लेकिन Parsley (अजमोद) के गुण अजवाइन के समान ही होते हैं। अधिकतर क्षेत्रो में Parsley (अजमोद) को अजवाइन ही समझा जाता हैं, लेकिन ऐसा नहीं हैं।

Parsley in Hindi

 

What is Parsley in Hindi – Parsley (धनिया) का इस्तेमाल सभी लोग खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए करते हैं। दाल सब्जी में Parsley (धनिया) डालने से उसका स्वाद तो बढ़ता ही हैं, साथ ही उससे आने वाली खुशबु से पूरा घर महक जाता है। Parsley (धनिया) की ताजी पत्तियो का इस्तेमाल होने के साथ साथ, इसके बीजो को सुखाकर भी Parsley powder (धनिया पाउडर) का इस्तेमाल किया जाता हैं। Parsley leaves meaning in hindi का मतलब धनिये की पत्तिया होता हैं। Parsley leaves की चटनी भोजन को और अधिक स्वादिष्ट बना देती हैं। भारत में धनिये के चटनी (Parsley sauce) को बहुत शौक से खाया जाता हैं। धनिये केवल खाने को स्वादिष्ट नहीं बनाता, यह आपके स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद होता हैं। आइये जाने

Benefits Of Parsley – धनिये (अजमोद) के फायदे

1. जोड़ो के दर्द से आराम पाने के लिए भी अजवाइन का इस्तेमाल किया जा सकता हैं। इसके लिए अजवाइन को सरसो के तेल में डालकर अच्छी तरह पका ले। अब इस तेल को ठंडा करके एक सीसी में भर ले। अब जब भी आपके जोड़ो में दर्द हो इस तेल से जोड़ो की मालिश करे। इस तेल से मालिश करने से जोड़ो का दर्द ठीक हो जायेगा।

2. पानी में अजवाइन के तेल की कुछ बुँदे मिलाकर कुल्ला करने से मसूडो में आयी सूजन धीरे धीरे कम हो जाती हैं।

3. अगर आपको उल्टियां आ रही हैं, तो शहद में लौंग और पार्सले पाउडर मिलाकर चाटने से उल्टियां बन्द हो जायेगी।

4. अजमोद का सेवन करने से किडनी में मौजूद व्यर्थ पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। जिससे किडनी की सफाई होती हैं, और आप किडनी में होने वाले रोगों से बचे रहते हैं।

5. सर्दी खाँसी की समस्या होने पर अदरक के साथ अजवाइन पाउडर खाने से आराम मिलता हैं।

6. अगर आपको बार बार हिचकी आ रही हैं, तो Parsley leaves (अजवायन पत्तियां) का रस निकालकर पियें। इससे आपको हिचकी आना बन्द हो जायेगा।

7. माइग्रेन के मरीज को अजवाइन के बीजो का धुंआ दे। इससे माइग्रेन के मरीज को बहुत आराम मिलेगा।

8. आपको जानकर होगी कि अजमोद की पत्तियो और बीज ही नहीं इसकी जड़ भी हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होती हैं। अजमोद की जड़ को सुखाकर उसका बारीक़ पाउडर बना ले। इस पाउडर को कॉफी में मिलाकर पिने से कमजोरी दूर हो जाती हैं। ध्यान रहे गर्भवती महिलाये और मिर्गी के मरीज इस पाउडर का सेवन ना करे।

9. Parsley (अजमोद) के बीज को पान के साथ चबाकर खाने से पेट दर्द और पेट में गैस बनने दोनों प्रॉब्लम का समाधान हो जाता हैं।

10. रोग प्रदिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने के लिए रोजाना अजमोद का सेवन करे। विटामिन ए और विटामिट सी से भरपूर अजमोद का सेवन करने से शरीर की रोग प्रदिरोधक क्षमता बढ़ती हैं।

11. मोटापा कम करने के लिए लोग अनेक उपाय करते हैं, लेकिन रिजल्ट जीरो मिलता हैं। अजवाइन का एक छोटा सा उपाय आपके बढ़ते मोटापे को कम कर सकता हैं। मोटापा घटाने के लिए रोजाना रात को सोने से पहले एक ग्लास साफ़ पीने के पानी में एक चम्मच अजवाइन डालकर रख दे। सुबह इस पानी को छलनी से छाने और इस पानी में शहद मिलाकर पियें।

12. ब्रेस्‍ट कैंसर आजकल भारत में तेजी से फैलने वाली गंभीर बीमारी के रूप में जन्म ले रही हैं। इस बीमारी से बचने के लिए रोजाना Parsley (अजमोद) का सेवन करे। Parsley में एपिजेनिन नाम का एक तत्व पाया जाता हैं। यह तत्व ब्रेस्‍ट कैंसर के खतरे को काफी हद तक कम कर देता हैं।

आज हमने आपको What is parsley in hindi इस विषय में जानकरी दी। हमारी इस जानकारी से आपको जरूर लाभ हुआ होगा। हमारी पोस्ट पढ़कर आपको parsley का हिंदी अर्थ जरूर समझ आया होगा। आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी हमे कमेंट करके जरूर बताये। अगर आपके पास Parsley के बारे में अन्य कोई जानकारी हैं, तो आप हमे अपनी जानकारी कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three + thirteen =

error: Content is protected !!