HomeHealth Tips in Hindi

Gale me Infection in Hindi गले में खराश का इलाज

Gale Me Kharash and Infection Ka Ilaj

आज हम आपको गले के इन्फेक्शन के बारे में बताने जा रहे हैं, इसीलिए हमारी आज कि पोस्ट का टाइटल हैं, “Gale Me Infection in Hindi”. तो चलिए जाने गले का इन्फेक्शन क्या हैं, और यह इन्फेक्शन कैसे होता हैं| गलत खान पान और कभी कभी सर्दी जुखाम के कारण गले में इन्फेक्शन हो जाता हैं| Gale Me Infection लम्बे समय तक रहने पर इंसान की हालत ऐसी हो जाती हैं, कि वह खाना भी नहीं खा पाता| एक शोध के अनुसार हर साल 30 मिलियन लोगो को गले का संक्रमण होता हैं| जिन लोगो का Immune system कमजोर हैं उनको और छोटे बच्चो को Gale Me Infection जल्दी हो जाता हैं|

Gale Me Infection in Hindi

गले में दो प्रकार से संक्रमण होता हैं| पहला संक्रमण कौक्स्सैकी वायरस के कारण होता हैं| इस संक्रमण में व्यक्ति के तालु पर छोटी छोटी गाँठ नजर आने लगती हैं| धीरे धीरे ये गांठे पक जाती हैं, और इनमे मवाद पड़ जाती हैं| पकने पर जब ये गांठे फूटती हैं, तो गले में बहुत अधिक दर्द होता हैं| इस स्थिति में व्यक्ति खाना तो दूर पानी भी नहीं पी पाता|

गले में दूसरे प्रकार का जो संक्रमण होता हैं, वह स्टैप्टोकौकल नामक बैक्टीरिया के कारण होता हैं| इस संक्रमण में बुखार आने के साथ साथ गले में पतली सफ़ेद परत जम जाती हैं| साँसो में तीव्र बदबू आने लगती हैं, और टॉन्सिल में सूजन आ जाती हैं| इस संक्रमण में भी व्यक्ति को बहुत कष्ट होता हैं|

गले का संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने वाला रोग हैं| जो व्यक्ति गले के संक्रमण से पीड़ित व्यक्ति के सम्पर्क में रहते हैं, यह रोग उनको आसानी से हो जाता हैं| क्योंकि इस रोग के जीवाणु रोगी व्यक्ति के खाँसने और छींकनें से तीव्रता से हवा में फैलते हैं, और अपने पास वाले व्यक्ति को इसका शिकार बना लेते हैं| गले में संक्रमण होने के 4 से 5 दिन बाद आपको पता चलता हैं, कि आपके गले में संक्रमण हैं|

आपके Gale Me Infection हैं, या नहीं इसका सही पता केवल तभी चल सकता हैं, जब आप डॉक्टर से मिले और गले का चेकअप कराये| कुछ ऐसे लक्षण हैं, जिन्हे पहचान कर आप यह अनुमान लगा सकते हैं, कि आपके गले में इन्फेक्शन हैं, या नहीं| इन लक्षणों के द्वारा भी काफी हद तक इस बात का पता चल जायेगा, कि आपके गले में इन्फेक्शन है, या नहीं हैं| आइये जाने गले में संक्रमण के कुछ सामान्य लक्षण और गले के संक्रमण के इलाज के बारे में|

गले में इन्फेक्शन के लक्षण (Signs of Throat Infection)

1. पानी पीने में परेशानी|
2. गले में घाव बनना|
3. गले का पकना|
4. खाना खाने में दर्द होना|
5. साँसों में तेज बदबू आना|
6. जीभ में सूजन आना|

गले में इन्फेक्शन का इलाज (Throat Infection Treatment in Hindi)

1. गले के इन्फेक्शन से छुटकारा पाने के लिए रात को सोने से पहले एक गिलास देशी गाय के दूध में एक चम्मच गाय का देशी घी और छोटी चम्मच से आधी चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर पियें|

2. अगर गले में टॉन्सिल के शुरूआती लक्षण दिखने पर रात में सोने से पहले एक गिलास गाय के दूध में आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर पियें|

3. शहद में अदरक और तुलसी का रस मिलाकर चाटने से गले का इन्फेक्शन ठीक हो जायेगा|

4. तुलसी के रस में शुद्ध शहद मिलाकर सुबह शाम चाटने से गले का इन्फेक्शन कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता हैं|

5. गले का इन्फेक्शन ठीक करने के लिए गले में मौजूद बैक्टीरिया को मारना जरुरी हैं| बैक्टीरिया को मारने के लिए रोजाना एक लहसुन कच्ची चबाकर खाये| लहसुन में Allicin नामक कैमिकल होता है| Allicin नामक यह कैमिकल बैक्टीरिया को मारता हैं|

6. सुबह खाली पेट एक गिलास गर्म पानी में आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर पीने से गले का संक्रमण ठीक हो जाता हैं|

7. गले में इन्फेक्शन होने पर हमारी साँसो से बहुत गन्दी बदबू आने लगती हैं| इस बदबू को दूर करने के लिए पुदीने की ताजी पत्तिया चबाकर खाये|

दोस्तों आज हमने आपको “Gale Me Infection in Hindi” इस विषय पर पूरी जानकारी दी| मुझे उम्मीद हैं, कि ये जानकारी आपके काम की होगी| हमारी पोस्ट आपको कैसी लगी और आपने हमारी पोस्ट से किस प्रकार लाभ उठाया, इसके बारे में आप हमें कमेंट करके जरूर बताये| हमें कमेंट करने के लिए पोस्ट के निचे बने कमेंट बॉक्स में जाये|

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × five =

error: Content is protected !!